Saturday, February 19, 2011

मेरे लिए प्यार- कविता भाग दो

प्यार है जीवित,
हठ की तरह,
जैसे मचलना बच्चे का,
चांद छूने के लिए.
जैसे कोई ज़िद्दी बच्चा,
लोट जाए धूल में,
पकड़कर खींचे मां का आंचल,
छितरा दे अपने पैर...
और रो-रोकर उठा ले सिर पर आसमां।
                                                  या,  
                                                   प्यार है,
                                                   सुबह में ढुलक आई,
                                                   दूबों की नोंक पर 
                                                   एकदम से पाक शबनम
                                                   या कि, 
                                                 
                                                  दहकते जंगल में
                                                   सुरक्षित बच रहा
                                                   कोई नम हरापन
                                                   घास की पत्तियों का
                                                   मद्धिम संगीत
                                                  और...
                                                          
                                                  शगुफ्तगी ताज़ी हवा की-सी।

9 comments:

अभिषेक प्रसाद 'अवि' said...

pyaar ki paribhasha achhi hai...

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

प्यार है,
सुबह में ढुलक आई,
दूबों की नोंक पर
एकदम से पाक शबनम

बहुत खूबसूरत अभिव्यक्ति

अंतर्मन said...

प्यार है,
सुबह में ढुलक आई,
दूबों की नोंक पर
एकदम से पाक शबनम

यानी कि
"खारे गुलाब्शा पे ज़िन्दगी"
है न गुरुदेव ?

ZEAL said...

कोई नम हरापन
घास की पत्तियों का
मद्धिम संगीत
और...

Beautiful presentation of feelings ..

.

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 22- 02- 2011
को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

http://charchamanch.uchcharan.com/

अजय कुमार said...

भावपूर्ण विश्लेषण

वन्दना said...

या,
प्यार है,
सुबह में ढुलक आई,
दूबों की नोंक पर
एकदम से पाक शबनम
या कि,

यही तो प्यार की महक है जितना महसूस करो उतनी ही शिद्दत से बढती हैं।

ravinumerouno said...

खुबसूरत भावनाओ में पिरोई हुई पंक्तियाँ :)

प्यार है थपकियो सा कुम्हार के हाथो का ..
देता हमें शक्ति और आकार हमारे अभिव्यक्ति का ....

ravinumerouno said...

खुबसूरत भावनाओ में पिरोई हुई पंक्तियाँ :)

प्यार है थपकियो सा कुम्हार के हाथो का ..
देता हमें शक्ति और आकार हमारे अभिव्यक्ति का ....