Friday, May 17, 2013

सुनो! मृगांका:34: रात की नब्ज़ भी थमी सी है...

अंधेरा घिर चुका था। बिहार की सड़के काफी बदनाम रही हैं...एक नेता तो हेमा मालिनी के गालों जैसी सड़के बनवाने के चक्कर में अपनी भद पिटवा चुके थे। लेकिन, सड़क अब उतनी भी बुरी नहीं है।

अभिजीत को लिटाए, मृगांका उसके चेहरे को एकटक देखती जा रही थी। बढी हुई बेतरतीब खिचड़ी दाढ़ी और बाल...गाल भी पिचक से गए थे। कार सरपट भागी जा रही थी।

...लेकिन अचानक गाड़ी चीख मारती रूक गई थी।

सूनी सड़क पर, घिरता अंधेरा। मृगांका ने बिहार के गुंडा-राज के बारे में बहुत कुछ सुन रखा था। दो गाड़ियों ने सड़क पर आड़े-तिरछे होकर रास्ता रोक रखा था। पांच-छह लोग गाड़ी से उतर आए थे।

एक आवाज़ आई, यही गाड़ी है।
...इस गाड़ी में अभिजीत जी हैं? एक सरगना से दिखते  शख्स ने आवाज़ लगाई।
कार में मौजूद पापा समेत प्रशांत तक को सांप सूंघ गया। ये लोग अभिजीत को कैसे जानते हैं। मृगांका को लगा
उसे ही उतरना होगा।

सवाल पूछने की बारी अब मृगांका की थी, आप लोग...?
हमारी मत पूछिए, पहले बताएं कि आप की कार में अभिजीत हैं?
हैं बिलकुल हैं...
वो आपके साथ नहीं जाएंगे..
ऐसे कैसे नहीं जाएंगे...जरा भी देर हुई तो उनकी जान को खतरा होगा..बोलते-बोलते गला रूंध गया मृगांका का। चलते चलते सरगना जैसा वो शख्स कार की पिछली सीट तक आ गया। मृगांका को आशंका होने लगी..ये है कौन..लगता तो किसी गिरोह का अगुआ है. अभिजीत को जानता कैसे है और उसे खोज क्यों रहा है..?

आपलोगों को अभिजीत से क्या काम है...? मृगांका ने सशंकित होकर पूछा।
सरगना जैसे उस शख्स ने तबतक अभिजीत को उस तरह लेटे देख लिया था। पूछा, क्या हुआ है इनको...?
उतना बताने का वक्त नहीं है हमारे पास...मृगांका के हाथ स्वतः जुड़ से गए। वह शख्स मृगांका के पास आया, आप मृगांका जी हैं क्या?
जी...
ओह, ठीक है आप अभिजीत जी को ले जाएं, बाकी बातें हम बाद में कर लेंगे...उसने जल्दी से अपना फोन नंबर एक कागज पर लिखकर मृगांका को दे दिया। कार फिर से सरपट दौड़ने लगी थी। उन दोनों गाड़ियों में से एक वापस लौट गई थी और सरगना जैसे उस शख्स की गाड़ी पीछे चल रही थी।

शाम से आंख में नमी सी है...

रात गुजर चुकी थी, लेकिन अंधेरा बाकी था। देर रात पटना के अस्पताल में अभिजीत को भर्ती करा दिया गया था। आईसीयू में। डॉक्टरों में गहन चेकअप के बाद कहा था, कल सुबह तक अगर ऐसा ही रहा...तो अभिजीत बचा लिया जाएगा। स्थिति में थोड़ी भी गिरावट...मृगांका सोच भी नहीं पा रही थी।

इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान के डॉक्टरों ने यह भी जोड़ दिया था साथ में, आने में थोड़ी देर हो गई...स्थितियां इसी देरी की वजह से जटिल हुई हैं।

देरी, हमेशा स्थितियों को जटिल कर देती है।

रात बीत रही थी...बीता हुआ हर पल मृगांका को राहत दे जाता, आने वाला हर पल अनिश्चित भविष्य की आशंका से हिलोर जाता...लग रहा था मानो नटिनी की तरह रस्सी पर चल रही हो, हाथों में पकड़ा बांस डगमग कर रहा हो...हर पल सदियों की तरह बीत रहा था।

अतीत ने, खासकर अभि से अलग होकर बीते अतीत ने कभी राहत नहीं बख्शी थी मृगांका को। पिछले कुछ साल गुजरते हुए हर पल ने टीस दी थी मृगांका को। अब बीत रहा हर पल, राहत दे रहा था। वक्त बहुत ताकतवर है...वक्त ही ईश्वर है।

प्रशांत सारी रात भागदौड़ ही करता रहा। मां इधर-उधर जाकर दो आंसू रोकर आ जाती, कभी मृगांका के गले लगती, कभी उसका चेहरा निहारती। भाभी और भैया भी आ चुके थे...मृगांका को मालूम तो सब कुछ था परिवार की पृष्ठभूमि के बारे में, लेकिन पछतावे में जलती भाभी और भाई की बीमारी में भी शर्मिन्दा से बड़े भैया के जब उसने पैर छू लिए, तो बड़े भाई से रहा ही नहीं गया।

कई बार प्रशांत ने अभिजीत को कहा था कि तेरी लवस्टोरी में तेरा भाई कैरेक्टर आर्टिस्ट है। लेकिन अभी शायद गांधी जी वाले हृदय परिवर्तन का दौरे-दौरा था। भाई ने जब अभिजीत के आने और सब कुछ दे जाने की बात मृगांका को सनाई तो मृगांका के चेहरे पर गुस्सा नहीं था अभि के भैया के लिए...लेकिन एक गहरी शिकायत तो थी ही।

सुबह हुई...हर रात की सुबह होती है। लेकिन इस बार ऐसा लग रहा था सुबह होगी ही नहीं। कुछ सुबहों का इंतजार सदियों के इंतजार सरीखा हो जाता है।

प्रशांत दौड़ता हुआ सा आया...भाभी...अभि, ठीक है अब।

मृगांका के चेहरे पर से तनाव छंट गया। अभि ठीक है, तो दुनिया सलामत है।

जिस अभिजीत की हर धड़कन मृगांका के नाम हो, वह ऐसे कैसे मर सकता है. अभिजीत मरा नहीं करते, अभिजीत मर नहीं सकते।

...जारी



Wednesday, May 8, 2013

सुनो! मृगांका:33: कागा सब तन खाइया...

खट् खट् खट्

कुल्हाड़ी हरे बांस पर चल रही थी। मृगांका ठगी-सी घर के बाहर खड़ी थी। मां अंदर गई थीं, तो उनके दहाड़ मार कर रोने की आवाज आई।

बिसेसर ने कहा, मयडम जी सब कुछ खतम हो गया। गांव की औरतों ने एक साथ मातम गाना शुरू कर दिया था।

हमनी के छोड़ि के नगरिया ए बाबा
हमनी के छोड़ि के नगरिया ए बाबा
कि आ हो बाबा सुन ली कि छोड़ि दिहिअ घर परिवार 
कौन बनमा मइ गइली हो..

मृगांका...सहसा विश्वास नहीं कर पा रही थी। अभिजीत, जिसने उससे कहा था कि वह न जाने कितने जन्मों से उसका इंतजार कर रहा था, जो न्यूज़ रूम के कोने उसे निहारा करता था, जो कहता था...मृग, तुम तो मेरी सूरजमुखी हो...नहीं...नहीं।

मृगांका, दालान को पार कर अंदर गई। सफेद आधी आस्तीन की शर्ट, और नीली जींस...हमेशा की तरह। अभिजीत के चेहरे पर दाढ़ी उग आई थी। दाढ़ी और सर के खिचड़ी बाल। चश्मा किनारे रखा। मृगांका पिघल रही थी। पूरी देह में थरथरी हो आई।

तुमने तो कहा था ना अभि...कभी साथ नहीं छोडूंगा...पक्के निर्मोही निकले तुम।

निर्मोही शब्द का इस्तेमाल अभिजीत ने ही सिखाया था मृगांका को। तुम निर्मोही ठहरे अभिजीत...देखो ना मृग तुम्हारे सामने खड़ी है।

मृगांका ने अभिजीत की अधमुंदी आंखों की तरफ देखा। उन्ही आंखों को कभी विस्फोट के घायलों में खोज रही थी मृगांका। दिल्ली सीरियल ब्लास्ट में।

वो आंखे यहां है...नहीं अभिजीत...मेरे कितने सपनों के राजकुमार ते तुम। अपनी तमाम बदतमीजियों, तमाम किस्म के भदेसपन के बाद भी मां, पापा सबकी पसंद थे...एकतरफा फ़ैसला कैसे कर लिया तुमने। प्यार तो मैंने भी किया था ना...मृगांका चीख-सी पड़ी थी।

गउआं के लोगबा केहू केहू से ना बोले
छोटका लइकवा भोरहिं से आंखहि ना खोले
सुनसान भइली डगरिया ए बाबा
कि आ रे बाबा नीमई या हो गईले पतझार
कि कवन बनमा मइ गइली हो

मातम का गीत जारी था। मृगांका की आंखों के सामने सारे दृश्य घूम गए, फ्लैश बैक वाली फिल्म सरीखी। पहली बार एक्सीडेंट में प्यार के इज़हार के बाद से, भावी जीवन के तमाम सपने।

अभिजीत, तुम मर नहीं सकते...तुम मुझे यूं छोड़कर नहीं जा सकते।

मृगांका ने देखा, अभिजीत के चश्मे के बगल में एक काग़ज़ रखा था...टेढ़ी मेढ़ी अभिजीत की लिखावट में लिखा था, लव मी वेन आई लीस्ट डिजर्व इट...बिकॉज़ दैट्स वेन आई रियली नीड इट।

अभि...देखो ना, मैं तुम्हारे सामने खड़ी हूं....कितना इंतजार किया। मैं जरा बाहर क्या गई पढाई पूरी करने, दुनिया बदल गई...मैं तुम्हारे प्यार के बिना जिंदा कैसे रहूंगी...छोड़कर जाने से पहले एक बार तो सोचा होता...

कैसहूं ऐ बाबा हमरा मई से मिला दअ
सगरो तजा के हमरो अरज सुना दअ
छोटका के छोटेबा छोटे बा उमरिया ए बाबा
कि आरे बाबा परिलै हमर गत तोहार कबन गवनमा नई गइल हो 

काग़ज़ को हाथ में तोड़ते-मरोड़ते मृगांका ने रोते-रोते अभिजीत के सीने पर सिर रख दिया, कुछ वैसे ही जैसे बेहद तनाव के पलों में अभिजीत उसके सीने पर सर रख दिया करता था। और कई दफा उसने भी अपनी दुश्वारियां साझा की थीं...।

पापा की आंखें नम थीं। प्रशांत हिचकी ले रहा था। मां तकरीबन गश खा चुकी थीं।

प्रशांत भैया...मृगांका ने अचानक पुकारा।
हां भाभी..
भैया....अभि, जिंदा है...भीड़ में मृगांका की बातें सुनकर हलचल सी हुई। बिसेसर दो कदम आगे बढ़ आया।

प्रशांत तकरीबन दौड़ता हुआ आया...सीने पर हाथ रखा अभिजीत के...दिल धड़क रहा था...आहिस्ता...आहिस्ता।

प्रशांत ने जरा भी देर नहीं की। भाभी गाड़ी स्टार्ट करवाओ, हमें अभी अभिजीत को पटना लिए चलना है।

फौरन गाड़ी में अभिजीत को लिटा दिया गया। उसका सिर मृगांका की गोद में था। बिसेसर ने तुलसी के पत्तों और सिर के सामने जल रही अगरबत्तियों को लात मार कर छितरा दिया। रुंधी हुईं आवाज निकली, अभिजीत भैया जिंदा हैं...मरे नहीं हैं...अरे मातम बंद करो...

निर्मोही अभिजीत का दिल जिसके लिए धड़क रहा था, उसी की गोद में लेटा उसका सफर शुरू हो गया था।

अभिजीत मरा नहीं करते...अभिजीत मर नहीं सकते...जब तक मृगांका का प्यार जीवित हो।

...जारी


Thursday, May 2, 2013

आवारेपन का रोज़नामचाः कर्नाटक में

रात गहरा गई है। नीम के पत्तों में गरम हवा सरसरा रही है। मैं काले कोलतार की सड़क पर घूम रहा हूं, अमलतास की पीली पंखुड़ियां पैरों के नीचे कभी-कभी कराह उठती हैं...चांद टेढ़े मुंह के साथ आसमान के कोने में ठिनक रहा है। हवा चल रही है, आसमान में बादल भी हैं...लेकिन आज दिन में गेस्ट हाउस का अटेंडेंट कह रहा था, ये गुलबर्गा है जनाब...गरमी में यहां पत्थर चटकते हैं।

जी हां, ये गुलबर्गा है।

लोगों की बोली में हैदराबादी पुट है। इलाका भी हैदराबाद-कर्नाटक ही कहा जाता है। वही इलाका, जिसके बारे में मैंने गूगल पर छानबीन बहुत की थी, दिल्ली से चलने से पहले...लेकिन ज्यादा कुछ हाथ नहीं आया था।

दिल्ली से चला था तो महीना अप्रैल का था, दिल्ली में गरमी दस्तक दे ही रही थी। कर्नाटक में चुनावी गरमाहट बढ़ गई थी। मुझे चुनाव कवर करना था।

हमने अपना प्यारा लाल गमछा साथ ले लिया था। दोस्त कहते हैं ये एक स्टाइल स्टेटमेंट बन सकता है। हमें स्टाइल से ज्यादा परवाह है अपने आप को उस कड़क धूप से बचने की, जो यहां इस मौसम में पागल कर देने की हद कर तीखी है।

19 अप्रैल की सुबह को हम बंगलोर स्टेशन उतरे तो लगातार दो रात एक दिन के सफ़र ने रीढ़ की हड्डियों पर असर डाल दिया था। बदन का जोड़-जोड़ और पोर-पोर पिरा रहा था।

बंगलोर की सुबह बहुत प्यारी होती है। शायद शामें भी होती हों...हम शाम तक रुके नहीं। फेसबुक पर हमने स्टेटस डाला भी था, कोई मित्र हों तो मिलें...कई एक मित्र असमर्थ थे, एक अभिनय जी ने शाम की चाय का न्योता दिया था....लेकिन उनकी चाय हमारी नसीब में नहीं थी।

दोपहर तीन बजे तक हम बंगलोर से चल चुके थे। आगे भाषा की समस्या आऩे वाली थी...लेकिन हमारा ड्राइवर मणि अच्छा दुभाषिया है। जब वो हंसता है, तो ठहाके में एक खिलखिलाहट होती है। उसके दांत चमकते हैं। उसका हंसना अच्छा लगता है।
चित्रदुर्ग के पास मनमोहक छटा


रास्ते में बनवारी जी इसरार करते हैं कि कर्नाटक आए तो स्थानीयता का पुट तभी आएगा, जब हम स्थानीय भोजन पर ध्यान दें। नारियल का पानी कर्नाटक में होने की पुष्टि करता है...मैं पके कटहलों की तरफ ध्यान दिलाता हूं। कैमरा सहायक, विनोद बिहार से हैं। उनको कटहल का स्वाद पता है।

बनवारी जी ने भी कटहल लिया है। कटहल की मीठी-मादक गंध...मुझे बचपन याद आ गया। मेरा मधुपुर...सड़क के किनारे नारियल गुल्मों की छटा है, सूरज का रंग बदल रहा है। लेकिन मंजिल दूर है...साढ़े पांच सौ किलोमीटर, भारतीय सड़कों पर। ठठ्ठा नहीं है सफ़र।

विनोद ओझा, कटहल चाभते हुए
 लेकिन दक्षिण कर्नाटक हो या उत्तर, सड़कों की हालत नब्बे फीसद तक सही है। अस्सी की रफ़्तार सामान्य है...। रास्ते में आता है, पहाड़ियों की कतार है, शिखरों पर पवनचक्कियों का घूमना जारी है। चित्रदुर्ग हवा की ताकत से पैदा हुई बिजली से रौशन है...रौशनी की कतारें पीछे छूट जाती हैं...

रौशनी की कतार यहां नीचे भी है, गेस्ट हाउस के सुनसान अहाते में...मेरी बालकनी से इमली का एक पेड़ सटा हुआ है। पेड़ पर नई पत्तियों की बहार है, जिनका रंग अभी ललछौंह ही है। मेरे आंगन के सामने मधुपुर में भी इमली का पेड़ था...पोखरे और हमारे घर की दीवार के बीच।

हमको बताया जाता था कि इमली के पेड़ पर भूत हुआ करते हैं, कभी दिखा नहीं। यहां गेस्ट हाउस के अहाते में नागराज का एक छुटका-सा मंदिर नुमा चबूतरा है। सुना है, अहाते में सांप भी बहुत है।

लेकिन इमली के उस पेड़ को हौले से छूकर दुलराता हूं...लगता है अपने ही घर में हूं,। मेरा मधुपुर गुलबर्गा पहुच गया है। मेरा मन उड़ता है, बादलों के साथ। आसमान में बादल हैं, चांद के लुका छिपी जारी है।


जारी




Wednesday, May 1, 2013

आवारेपन का रोज़नामचाः शांति के अधिष्ठाता की जन्मभूमि लुंबिनी

कुशीनगर में हमारे लिए देखने लायक चीज़ें बची नहीं थीं...दिलो-दिमाग़ में बस बुद्ध और उनके संदेश घूम रहे थे। फक्कड़ों का एक अलग संप्रदाय होता है, कबीर, बुद्ध, नानक...और न जाने कितने संत। जिनने कभी नहीं कहा कि धर्म का अर्थ कुछ लोगों को ज्यादा लोगों का शोषण होता है...जिन्होंने तब के धर्मों में सुधार के लिए अपनी बातें रखीं...।

दिन में खेत देखने के शौक़ीनों ने खेत तक घूम आने का प्रस्ताव रखा। हम किसी भी प्रस्ताव का विरोध कत्तई नही करते, जब तक कि वो घूमने-फिरने से जुडा़ हो।

हर किसी को सरसों के खेत में शाहरूख की तरह आड़े खड़े होकर, और हाथ फैलाते हुए तस्वीरें खिंचवाने का शौक़ सवार था। कतार में खड़े फोटो खिंचवाने पर उतारू लोग। गन्ने का स्वाद भी लिया गया। अंगरेजीदां पत्रकारों के लिए इससे बढ़िया पॉवर्टी टूरिज़म और कुछ हो सकता था क्या।

कुशीनगर में हमें शांति के इस जज्बें को सेलिब्रेट करना था, आप जानते ही हैं सेलिब्रेट करने के लिए क्या चाहिए जाड़े के दिनों में..आह, दिनों में नहीं, जाड़े की शाम में।

होटल के मैनेजर ने होटल की विस्तृत छत पर बोन फायर का जुगाड़ किया था। भुने हुए मांसाहार का उत्तम प्रबंध। अग्नि के चारों तरफ मानव वलय...नृत्यरत लोग।

बुद्ध ने कहा होगा, यही जीवन है, जहां हर पल ही आनंद है। जहां उम्मीदें नहीं हों, जहां जमा करने की अभिलाषा न हो, तो दुख नहीं होगा। लोग बड़ी सादगी से नाच रहे थे। गाने जरूर पंजाबी, अंग्रेजी के लिए नृत्य तो आदिम भंगिमा है ना..।

अलसभोर में, बस में भरकर हम निकले तो चारों तरफ कोहरे का साम्राज्य था। बस के केबिन में जाकर बैठ गया। ड्राइवर और कंडक्टर से मेरी गाढ़ी दोस्ती हो गई थी, वो लोग सरेसा खैनी के शौक़ीन थे। इप्सिता मैडम सारे रास्ते कोहरे से ढंके, सफेद चादर में लिपटे हरे-भरे खेतों को कैमरे में क़ैद करती रहीं।

लुंबिनी में, मुख्य मंदिर के सामने

नेपाल भारत सीमा पर, मुझे स्थानीय पकौड़े की खुशबू मिलने लगी थी। थोड़ा ट्रैपिक जाम था, तो हम उतरकर मुरमुरे (मूढ़ी) और पकौड़े खरीदे जिसके साथ मिर्च की लहसुन वाली चटनी थी...अद्भुत स्वाद था।

लुंबिनी पहुंचते-पहुंचते साढे तीन बज गए। हमारे साथ फ्रांस के एक साथी भी थे, जिनके पासपोर्ट-वीजा़ के चक्कर में घंटा भर लग गया था सीमा पर।

बहरहाल, नेपाल के लुंबिनी जाएंगे तो स्थापत्य से लेकर हवा तक में तिब्बती, चीनी या जापानी खुनक मिलती है। भारतीय नहीं।

मंदिर के भीतर वीडियोग्रफी की मनाही थी...मुख्यमंदिर के अंदर तो स्टिल फोटोग्रफी भी मना थी। बहरहाल, हमने कांच से चारों तरफ से बंद एक पत्थर देखा, जिसे देखने के लिए लंबी कतार लगी थी। वह पत्थर, मान्यता है कि इसी पर सिद्धार्थ का जन्म हुआ था।

सिद्धार्थ की मां का नाम माया देवी थी। प्रसूति का वक्त आने पर माया देवी मायके को जाने लगी थीं, तो साल के एक पेड़ के नीचे उन्हें प्रसूति दर्द हुआ और एक पत्थर पर उनने सिद्धार्थ को जन्म दिया था। कुछ ही दिनों में माया देवी की मृत्यु हो गई। शुद्धोधन के पुत्र सिद्धार्थ का पालन-पोषण किया गौतमी ने, जिसकी वजह से सिद्धार्थ को गौतम भी कहा जाता है।

सिंहली अनुश्रुतियों,  खारवेल के अभिलेख, अशोक के सिंहासनारूढ होने की तिथियों की गणना के आदार पर सिद्धार्थ के जन्म की तिथि ईसा के जन्म से 563 साल पहले आंकी गई है।

सिद्धार्थ के जन्म से पहले उनकी मां ने विचित्र सपने देखे थे। पिता शुद्धोदन ने 'आठ' भविष्यवक्ताओं से उनका अर्थ पूछा। सबने कहा कि महामाया को अद्भुत पुत्ररत्न की प्राप्ति होगी। यदि वह घर में रहा तो चक्रवर्ती सम्राट् बनेगा और यदि उसने गृहत्याग किया तो संन्यासी।

संन्यासी भी ऐसा कि अपने ज्ञान के प्रकाश से पूरी दुनिया को चकाचौंध कर देगा।

शुद्धोदन ने सिद्धार्थ को चक्रवर्ती सम्राट बनाना चाहा, उसमें क्षत्रियोचित गुण उत्पन्न करने के लिये समुचित शिक्षा का प्रबंध किया, किंतु सिद्धार्थ सदा किसी चिंता में डूबे दिखाई देते थे। अंत में पिता ने उन्हें विवाह बंधन में बांध दिया।

खैर, यही जगह लुंबिनी है या नहीं इसके बारे में थोड़ा विवाद है, लेकिन कपिलवस्तु से यह करीब 14 किलोमीटर दूर पड़ता है, जैसा ह्वेनसांग ने वर्णित किया है और अशोक का स्तंभलेख भी है, जिसपर लिखा है---'देवानं पियेन पियदशिना लाजिना वीसतिवसाभिसितेन अतन आगाच महीयते हिदबुधेजाते साक्यमुनीति सिलाविगड़भी चाकालापित सिलाथ-भेच उसपापिते-हिद भगवं जातेति लुम्मनिगामे उबलिके कटे अठभागिए च'----इस हिसाब से तो यही जगह लुंबिनी है।

लुंबिनी को नेपाल सरकार ने एक अच्छे पर्यटक स्थल के रूप में विकसित किया है, लेकिन कुछ बुनियादी सुविधाओं की कमी है।

लुंबिनी के उस ऐतिहासिक पत्थर के आसपास डॉलरों, येनों की बरसात थी, बारह-पंद्रह बोरे नोट तो होंगे ही...पता नहीं लोगों ने क्या सोच कर दान दिया था...जो भी सोचकर दिया हो, हमें शाम को वापस लौटने की जल्दी थी। गोरखपुर में महापरिनिर्वाण एक्सप्रैस हमारा इंतजार कर रही थी...हमारी टीम को आगरे के ताजमहल के दीदार करना था।

मुझे ताजमहल में कोई दिलचस्पी नहीं, पहली बार मैं ताजमहल गया। प्रेम के इस वैभवशाली शो-ऑफ को देखकर मुझे ताज्जुब नहीं हुआ। बादशाह था, ताजमहल तो बनाना ही था उसे....मुझे उस अदने से आदमी दशरथ मांझी की याद आई, जिसने फरहाद की तरह अपनी बीवी के लिए पहाड़ का सीना चीर दिया।

प्रेम हो तो दशरथ बाबा जैसा...जो कुछ कर गुजरे वो भी आपने हाथों से। न कि 22 साल में 20 हजार मजदूरों और सत्ता के दम पर। मुमताज को अगर चुनना होता तो शायद बादशाह के हाथों उगाया एक गुलाब ज्यादा पसंद आता...।

खैर. बुद्ध से जुड़े स्थानों का आवारापन की यह समापन किस्त है...अभी कर्नाटक में हूं। यहां की गरम हवा में आवारगी का अपना मजा है।