Sunday, August 29, 2021

दुनिया का पहला सच्चा वैज्ञानिक इब्न अल-हैतम

हुआ यूं कि मिस्र का खलीफा नील नदी में हर साल आने वाले बाढ़ से बड़ा हैरान था. उसने एक साइंसदान को कहा कि वह नील नदी की बाढ़ से निबटने का कोई हल निकाले. वह वैज्ञानिक उन दिनों बसरा में था और उसने दावा किया कि नील नदी के बाढ वाले पानी को पोखरों और नहरों के जरिए नियंत्रित किया जा सकता है और उस पानी को गर्मी के सूखे दिनों में इस्तेमाल किया जा सकता है.

अपना यह सुझाव लेकर, वह वैज्ञानिक काहिरा आया, और तब जाकर उसे यह इल्म हुआ कि इंजीनियरिंग के लिहाज से उसका सिद्धांत अव्यावहारिक है. लेकिन मिस्र के क्रूर और हत्यारे खलीफा के सामने अपनी गलती मान लेना, अपने गले में फांसी का फंदा खुद डालने जैसा ही था, ऐसे में उस वैज्ञानिक ने तय किया कि सजा से बचने के लिए वह खुद को पागल की तरह पेश करे.

नतीजतन, खलीफा ने उसे मौत की सजा तो नहीं दी, लेकिन उसको उसी के घर में नजरबंद कर दिया. उस वैज्ञानिक को मनमांगी मुराद मिल गई. अकेलापन और पढ़ने के लिए बहुत कुछ.

दस साल बाद जब उस खलीफा की मौत हुई, तब जाकर वैज्ञानिक छूटा. यह वापस बगदाद लौट गया और तब तक उसके पास बहुत सारे ऐसे सिद्धांत थे, जिसने उसे दुनिया का पहला सच्चा वैज्ञानिक बना दिया.

उस वैज्ञानिक का नाम था, इब्न अल-हैतम जिसने दस साल की नजरबंदी के दौरान भौतिकी और गणित के सौ से अधिक काम पूरे कर लिए थे.

हम सब जानते हैं और पढ़ते आ रहे हैं कि सर आइजक न्यूटन ही दुनिया के अब तक के सबसे महान वैज्ञानिक हुए हैं, खासकर भौतिकी (फिजिक्स) की दुनिया में उनका योगदान अप्रतिम है.

सर आइजक न्यूटन को आधुनिक प्रकाशिकी (ऑप्टिक्स) का जनक भी कहा जाता है. न्यूटन ने गुरुत्वाकर्षण और गतिकी के अपने नियमों के अलावा लेंसों और प्रिज्म के अपने कमाल के प्रयोग किए थे. हम सबने ने अपने स्कूली दिनों में, प्रकाश के परावर्तन और अपवर्तन के उनके अध्ययन के बारे में जाना है और यह भी कि प्रिज्म से होकर गुजरने पर प्रकाश सात रंगों वाले इंद्रधनुष में बंटकर दिखता है.

लेकिन, न्यूटन ने भी प्रकाशिकी के अपने अध्ययन के लिए एक मुस्लिम वैज्ञानिक की खोजों का सहारा लिया है जो न्यूटन से भी सात सौ साल पहले हुए थे.

वैसे, आमतौर पर यही माना जाता है, और खासतौर पर विज्ञान के इतिहास की चर्चा करते समय यही कहा जाता है कि रोमन साम्राज्य के उत्कर्ष के दिनों के बाद और आधुनिक यूरोप के रेनेसां (नवजागरण) की बीच की अवधि में कोई खास वैज्ञानिक खोजें नहीं हुईं. पर यह एकतरफा बात है और जाहिर है, भले ही यूरोप अंधकार युग में रहा हो, पर यह जरूरी नहीं है कि बाकी दुनिया में भी ज्ञान के मामलें में अंधेरा छाया था. असल में, यूरोप के अलावा बाकी जगहों पर बदस्तूर वैज्ञानिक खोजें चल रही थीं.

अरब प्रायद्वीप के इलाके की बात करें तो नवीं से तेरहवीं सदी के बीच का दौर वैज्ञानिक खोजों के लिहाज से सुनहरा दौर माना जा सकता है.

इस दौर में गणित, खगोल विज्ञान, औषधि, भौतिकी, रसायन और दर्शन के क्षेत्र में बहुत प्रगति हुई. इस अवधि के बहुत सारे विद्वानों और वैज्ञानिकों में एक नाम था इब्न अल-हैतम का, जिनका योगदान सबसे बड़ा माना जा सकता है.

अल-हसन इब्न अल-हैदम का जन्म 965 ईस्वी में इराक में हुआ था और उन्हें आधुनिक वैज्ञानिक तौर-तरीकों का जनक माना जाता है.

आमतौर पर माना जाता है कि वैज्ञानिक तौर-तरीकों से खोज करने में घटनाओं की परख, नई जानकारी हासिल करना या पहले से मौजूद जानकारी को ठीक करना या उसे प्रेक्षणों तथा मापों के आंकड़ों के आधार पर फिर से साबित करना, संकल्पनाएं नाकर उनके आंकड़े जुटाना है और इस तरीके की स्थापना का श्रेय 17वीं सदी में फ्रांसिस बेकन और रेने डिस्कार्तिया ने की थी, पर इब्न अल-हैतम यहां भी इनसे आगे हैं.

प्रायोगिक आंकड़ों पर उनके जोर और एक के आधार पर कहा जा सकता है कि इब्न अल-हैदम ही इस ‘दुनिया के पहले सच्चे वैज्ञानिक’ थे.

इब्न अल-हैदम ही पहले वैज्ञानिक थे जिन्होंने यह बताया कि हम किसी चीज को कैसे देख पाते हैं.

उन्होंने अपने प्रयोगों के जरिए यह साबित किया कि कथित एमिशन थ्योरी (जिसमें बताया गया था कि हमारी आंखों से चमक निकलकर उन चीजों पर पड़ती है जिन्हें हम देखते हैं) जिसे प्लेटो, यूक्लिड और टॉलमी ने प्रतिपादित किया था, गलत है. इब्न अल-हैदम ने स्थापित किया कि हम इसलिए देख पाते हैं क्योंकि रोशनी हमारे आंखों के अंदर जाती है. उन्होंने अपनी इस बात को साबित करने के लिए गणितीय सूत्रों का सहारा लिया था. इसलिए उन्हें पहला सैद्धांतिक भौतिकीविद भी कहा जाता है.

लेकिन इब्न अल-हैदम की प्रसिद्धि पिन होल कैमरे की खोज के लिए अधिक है और इसतरह उनके हिस्से में प्रकाश के अपवर्तन (रिफ्रैक्शन) के नियम की खोज का श्रेय भी आना चाहिए. इब्न अल-हैदम ने प्रकाश के प्रकीर्णन (डिस्पर्शन) की खोज भी की कि किसतरह प्रकाश विभिन्न रंगों में बंट जाता है. इब्न अल-हैदम ने छाया, इंद्रधनुष और ग्रहणों का अध्ययन भी किया और उन्होंने यह भी बताया कि पृथ्वी के वायुमंडल से किस तरह प्रकाश का विचलन होता है. इब्न अल-हैदम ने वायुमंडल की ऊंचाई भी तकरीबन सही मापी और उनके मुताबिक पृथ्वी के वायुमंडल की ऊंचाई करीबन 100 किमी है.

कुछ जानकारों का कहना है कि इब्न अल-हैतम ने ही ग्रहों की कक्षाओं की व्याख्या की थी, और उनकी इसी बात के आधार पर बाद में कॉपरनिकस, गैलीलियो, केपलर और न्यूटन ने ग्रहों की गतिकी का सिद्धांत दिया.

(यह लेख इल्म की दुनिया सीरीज का हिस्सा है)

Sunday, June 13, 2021

क्या आप डॉ बुशरा अतीक को जानते हैं?

डॉ. बुशरा अतीक कई मायनों में प्रेरणास्रोत हैं. पहली बात तो यही कि वह अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय की छात्रा रही हैं और उन्हें पिछले साल 2020 में भारत के सबसे प्रतिष्ठित विज्ञान पुरस्कार शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार दिया गया है. उन्हें यह पुरस्कार मेडिकल साइंस के क्षेत्र में उनके अहम योगदान के लिए दिया गया है.

यह योगदान छोटा-मोटा नहीं है.

आइआइटी कानपुर में डिपार्टमेंट ऑफ बायोलजिकल साइंसेज ऐंड बायोइंजीनियरिंग में प्रोफेसर बुशरा अतीक की अगुआई में कई संस्थानों को मिलाकर बनी टीम ने एक अध्ययन किया और कैंसर के 15 फीसद मरीजों पर असर डालने वाले बेहद आक्रामक स्पिंक 1-पॉजिटिव (SPINK1-positive) प्रोस्टेट कैंसर के एक सब-टाइप की मॉलेक्यूलर मैकेनिज्म और उसकी पैथोबायोलजी का पता लगा लिया.

डॉ अतीक ने अपनी बीएससी, एमएससी और पीएचडी का पढ़ाई अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के डिपार्टमेंट ऑफ जूलॉजी से की. बाद में यूनिवर्सिटी ऑफ मिशीगन के मिशीगन सेंटर फॉर ट्रांसलेशनल पैथोलजी में उन्होंने डॉ अरुल चिन्नैय्या के तहत पोस्टडॉक्टोरल फेलो के रूप में प्रशिक्षण हासिल किया.

डॉ अतीक के शोध में कैंसर बायोमार्कर्स, कैंसर जीनोमिक्स, नॉन-कोडिंग आरएनए, ड्रग टारगेट और प्रोस्टेट कैंसर जैसे विषय शामिल हैं.

उनका काम प्रोस्टेट, स्तन और बड़ी आंत के कैंसर पर केंद्रित है. उनका शोध कैंसर बायोमार्कर और मॉलेक्यूलर बदलावों पर आधारित है जिससे प्रोस्टेट और स्तन कैंसर में बढ़ोतरी होती है.

वेबसाइट फर्स्टपोस्ट को दिए अपने इंटरव्यू में वह कहती हैं, “हमारी प्रयोगशाला कैंसररोधी उपचार के टारगेट्स की खोज करना चाहती है.” वह साथ में कहती हं कि इन टारगेट्स की पहचान से कैंसर का जल्दी ही पता लगाया जा सकेगा, और यह बेहद महत्वपूर्ण है क्योंकि जल्दी से पता लगने से कामयाबी के साथ उपचार होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं.

2019 में, डॉ. अतीक ने उस टीम की अगुआई कर रही थी जिसने जिसने स्पिंक1 पॉजिटिव प्रोस्टेट कैंसर सबटाइप के आणविक तंत्र और रोगविज्ञान को खोज निकाला. डॉ अतीक ने अंग्रेजी अखबार द हिंदू को बताया, "हमने पाया कि EZH2 प्रोटीन का बढ़ा हुआ स्तर SPINK1 पॉजिटिव कैंसर में इन दो माइक्रोआरएनए के संश्लेषण में कमी को ट्रिगर करता है. और दो माइक्रोआरएनए के निम्न स्तर बदले में SPINK1 के अधिक उत्पादन की ओर ले जाते हैं.,

उन्होंने सीएसआइआर-सेंट्रल ड्रग रिसर्च इंस्टीट्यूट, लखनऊ और कनाडा, अमेरिका और फिनलैंड के प्रोस्टेट कैंसर पर काम करने वाले अन्य समूहों के सहयोग से आइआइटी कानपुर के अन्य शोधकर्ताओं के साथ हाल के एक अध्ययन में इस बात का पता लगाया कि एंड्रोजन डिप्रिवेशन थेरेपी, जिसका उपयोग प्रोस्टेट के उपचार के लिए किया जाता है, वह इसे ठीक करने के बजाय इसे बढ़ा देता है. प्रोफेसर अतीक ने रिसर्च मैटर्स को बताया, “फिलहाल, प्रोस्टेट कैंसर के रोगियों के लिए एण्ड्रोजन डिप्रिवेशन थेरेपी के व्यापक उपयोग को देखते हुए, हमारे निष्कर्ष खतरनाक हैं. प्रोस्टेट कैंसर के रोगियों को एंटी-एंड्रोजन थेरेपी देने से पहले काफी सोच-विचार लेना चाहिए.”

अब बुशरा भारतीय आबादी के म्युटेशनल परिदृश्य को जीन सीक्वेंसिंग के जरिए खोजना चाहती हैं. इसके साथ ही वह ऐसी विधि भी खोज निकालना चाहती हैं जिसके तहत प्रोस्टेट कैंसर के खास बायोमार्कर्स विकसित किए जा सकें और जिसकी पहचान महज यूरिन टेस्ट के जरिए ही हो सके. अभी प्रोस्टेट ग्रंथि में 12 छेद मोटी सुइयों से करके बायोप्सी की जाती है और तब उस कैंसर का पता लगाया जाता है. उन्होंने अपने एक इंटरव्यू में कहा भी है, “बायोप्सी होते देखना ही काफी दर्दनाक है, और इस वजह से मुझे लगता है कि कोई खून के परीक्षण या यूरिन बेस्ड जांच का तरीका खोजा जाना चाहिए.” डॉ अतीक को लगता है कि प्रोस्टेट कैंसर की जांच के लिए यूरिन टेस्ट में बायोमार्कर्स खोजे जा सकते हैं.

भारत के सबसे बड़े विज्ञान पुरस्कार के बाद डॉ बुशरा अतीक के लिए उनका महिला होना मायने नहीं रखता. लेकिन करियर की शुरुआत में उनके एक सहपाठी ने उन्हें अंडर-ग्रेजुएट कॉलेज में टीचर बनने की सलाह दी थी. जाहिर है, डॉ. बुशरा ने उसकी बात को तवज्जो नहीं दी थी.

आज भी उनकी सलाह यही है, धीरज रखो और आलोचनाओं को आड़े न आने दो.

लगता तो यही है कि भारतीय विज्ञान का भविष्य डॉ बुशरा अतीक जैसे वैज्ञानिकों के हाथ मे सुरक्षित है.

Wednesday, May 26, 2021

शख्सियतः पूर्वोत्तर के चाणक्य हेमंत विस्व सरमा

शख्सियत । हेमंत विस्व सरमा

मंजीत ठाकुर

बहुत साल हुए, हेमंत विस्व सरमा ने एक असमिया फिल्म में बाल कलाकार के तौर पर अपने अभिनय कैरियर की शुरुआत की थी. अभिनेता वाला कैरियर उतना नहीं चला, पर बतौर नेता हेमंत विस्व सरमा वाकई पूर्वोत्तर के चाणक्य की भूमिका में मशहूर हो गए हैं और 10 मई, 2021 सोमवार की दुफहरिया में उन्होंने असम के मुख्यमंत्री का ताज भी पहन ही लिया.

हेमंत विस्व सरमा इसकी तलाश में न जाने कब से थे.

असम के विधानसभा चुनावों में भाजपा ने लगातार दूसरी बार जीत हासिल की है. पिछली बार असम की कुरसी केंद्र से असम भेजे गए सर्बानंद सोनोवाल को मिल गई थी और इस बार यह पद मिला सरमा को. सोनोवाल और सरमा के बीच सियासी तनातनी बनी रहेगी और दोनों के बीच यह प्रतिस्पर्धा पुरानी है, तब से, जब दोनों ही 1980 के दशक में ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन के सदस्य थे.

बहरहाल, 23 अगस्त, 2015 को जब तिवा स्वायत्त परिषद में कांग्रेस के अच्छे प्रदर्शन वाले नतीजे एक दिन पहले ही आए थे और सरमा ने ट्वीट करके कांग्रेस को बधाई दी, उस समय तक किसी को यह इल्म नहीं था कि सरमा भाजपा में शामिल होने वाले थे. क्षेत्रीय न्यूज चैनलो में भी खबर यही चल रही थी कि भाजपा के असम प्रदेश अध्यक्ष सिद्धार्थ भट्टाचार्य पार्टी के खराब प्रदर्शन की वजह से पार्टी अध्यक्ष अमित शाह से शाम में मिलेंगे और कयास लगाए गए कि भट्टाचार्य अपना इस्तीफा सौंपेंगे.

लेकिन कहानी दूसरी थी.

उसी शाम हेमंत विस्व सरमा कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए थे. यह हैरतअंगेज था क्योंकि लंबे अरसे तक सरमा असम के मुख्यमंत्री तरुण गोगोई के दाहिने हाथ माने जाते थे और जानकारों का मानना है कि 2011 में असम में कांग्रेस की जीत की रणनीति खुद सरमा ने तैयार की थी. सरमा को शायद गोगोई के बाद मुख्यमंत्री की कुरसी मिलने की उम्मीद थी.

पर, तरुण गोगोई शायद वंशवाद में यकीन रखते थे और उन्होंने अपने बेटे गौरव गोगोई को बतौर वारिस पेश किया तो सरमा का संयम टूट गया. बाद में, सरमा ने मीडिया के सामने इंटरव्यू में कहा कि वह जब कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से मिलने पहुंचे थे तो कांग्रेस नेता का ध्यान उनसे अधिक अपने कुत्ते पर था. असल में, अपने सियासी उस्ताद तरुण गोगोई से सरमा की तनातनी चार साल से अधिक समय तक चली थी और उस जंग में राहुल गांधी ने गोगोई का पक्ष लिया था और सरमा उसी बाबत गांधी से बात करने आए थे. सरमा ने खुद ट्वीट करके यह बताया था कि जब कांग्रेस उपाध्यक्ष (राहुल गांधी) के साथ असम के अहम मसलों पर वह बातचीत चाहते थे, उस वक्त राहुल अपने पालतू कुत्ते को बिस्किट खिलाने में व्यस्त थे.

उस वक्त की मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, असम के सात में से छह भाजपा सांसद सरमा को पार्टी में लाने के खिलाफ थे. तो फिर नेतृत्व कैसे तैयार हुआ?

क्योंकि भाजपा नेतृत्व को सरमा के रणनीतिक कौशल पर पूरा भरोसा हो गया था. सरमा के पास गजब का राजनैतिक प्रबंधन और चुनावी कारीगरी तो है ही, सूबे भर में उनकी लोकप्रियता भी है. असल में, भाजपा नेतृत्व जानता था कि 2010 और 2014 में असम राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस के पक्ष में भाजपा विधायकों की तरफ से सरमा ने ही क्रॉस वोटिंग करवाई थी. भाजपा अब इस कारीगरी का अपने लिए इस्तेमाल करना चाहती थी.

2006 से 2014 के बीच स्वास्थ्य मंत्री के रूप में जालुकबारी से तीन बार विधायक रहे सरमा ने कई लोकप्रिय कदम उठाए, जिनमें 24 घंटे की एंबुलेंस सेवा और ग्रामीण अस्पतालों में डॉक्टरों की मौजूदगी की अनिवार्यता शामिल थे. इसी तरह 2011 से 2014 तक शिक्षा मंत्री के रूप में उन्होंने स्कूली शिक्षकों की भर्ती की एक पारदर्शी प्रक्रिया पेश की जिसकी परिणति लगभग दो लाख नई भर्तियों में हुई.

जाहिर है, सरमा की इस लोकप्रियता से गौरव गोगोई असुरक्षित महसूस करने लगे थे. इस बार असम की 126 विधानसभा सीटों में भाजपा ने 75 सीटों पर जीत हासिल की है और हेमंत विस्व सरमा ने जालुकबाड़ी सीट पर लगातार पांचवीं बार जीत दर्ज की है.

हेमंत विस्वा सरमा 1990 के दशक में कांग्रेस में शामिल हुए थे और 2001 में पहली बार उन्होंने गुवाहाटी के जालुकबाड़ी से चुनाव लड़ा. उन्होंने यहां असम गण परिषद के नेता भृगु कुमार फुकन को हराया और उसके बाद से इस सीट पर सरमा अजेय बने हुए हैं.

कांग्रेस में रहते हुए सरमा ने शिक्षा, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, कृषि, योजना और विकास, पीडब्ल्यूडी और वित्त जैसे महत्वपूर्ण मंत्रालयों का काम संभाला है.

बहरहाल, सरमा का भाजपा में आना पूर्वोत्तर में उसके लिए भाग्योदय जैसा हुआ है. सरमा के पास न सिर्फ असम की, बल्कि पूरे पूर्वोत्तर की अच्छी समझ है. वह बीते 19 साल से सरकार में मंत्री रहे हैं इसलिए उनके पास प्रशासन का भी अगाध अनुभव है.

असल में मुख्यमंत्री बदले जाएंगे इसका आभास तो तभी हो गया था, जब भाजपा ने चुनाव से पहले अपने मुख्यमंत्री पद उम्मीदवार की घोषणा नहीं की थी. आमतौर पर भाजपा अपने सत्तासीन राज्यों में ऐसा नहीं करती.

बहरहाल, हेमंत विस्व सरमा की कहानी में वह मंजिल आ ही गई जिसके लिए उन्होंने गोगोई पिता-पुत्र के खिलाफ बगावत की थी. जानकार बताते हैं कि 23 अगस्त को भाजपा में सरमा के शामिल होने के बाद राहुल गांधी ने बजरिए अहमद पटेल अपना निजी फोन नंबर सरमा को भिजवाया था. राहुल गांधी को सरमा ने फोन नहीं किया, क्योंकि सरमा का सिद्धांत है, पलटकर नहीं देखना.

असम कांग्रेस वाकई सरमा को खोकर पछता रही होगी.

Tuesday, May 25, 2021

कौन था ताजमहल का असली वास्तुकार उस्ताद ईसा या उस्ताद अहमद लाहौरी!

मंजीत ठाकुर

राजीव जोसफ का एक नाटक है, गार्ड्स ऐट द ताज, जिसके एक दृश्य में बाबर और हुमायूं ताजमहल का उद्घाटन देख रहे होते हैं. हुमायूं इस शानदार मकबरे के निर्माण का श्रेय, जाहिर है, बादशाह शाहजहां को देते हैं, जबकि बाबर के हिसाब से इसका श्रेय वास्तुकार उस्ताद ईसा को जाना चाहिए.

रुकिए. इस लेख के पहले पैराग्राफ से आप यह न मान लें कि इतिहासकार उस्ताद ईसा को ही वास्तुकला के इस नगीने के निर्माण के पीछे की असली प्रतिभा मानते हैं. तो फिर कौन हैं वह, जिसने ताजमहल बनाया, जिसे शायर शकील बदायूंनी ने ‘मोहब्बत की निशानी’ बताया है तो साहिर लुधियानवी ने ‘ग़रीबों की मोहब्बत का मज़ाक़’ कहा है.

इल्म की दुनिया में आज किसी एक मुस्लिम वैज्ञानिक या विद्वान की बात न कर, हम कुछ ऐसे कलाकारों-वास्तुविदों का जिक्र करेंगे जो ताजमहल के निर्माण से जुड़े रहे. हालांकि, एक बात से सभी इतिहासकार एकमत हैं कि मुगल बादशाहों के दौर में, किसी चीज के दस्तावेजीकरण पर खुद मुगल बादशाहों की निगरानी होती थी. इसी वजह से, हमारे पास ताजमहल की निर्माण प्रक्रिया से जुड़े बेहद कम सुबूत हैं. लगभग दो सदियों तक, ताजमहल के निर्माण का श्रेय बादशाह शाहजहां को मिली दैवीय प्रेरणा को दिया जाता रहा. जाहिर है, इसके पीछे उनकी दिवंगत बीवी को समर्पण और प्यार की भावना भी थी. वैसे सचाई यह है कि शाहजहां के सपने को सच करने के वास्ते हजारों कलाकार और कारीगर पूरी लगन से इस काम में लगे हुए थे.

असल में, सन 1800 तक ब्रिटिशों ने हिंदुस्तान के तीन-चौथाई हिस्से पर नियंत्रण हासिल कर लिया था और ताजमहल की देखरेख का जिम्मा भी उनके पास आ गया था. अंग्रेजों ने जाहिर है, उसके बाद उसके विभिन्न हिस्सों की मरम्मत भी की.

इसी के दौरान उस्ताद ईसा का नाम फिजां में तैरने लगा. ताजमहल से जुड़ी कुछ पांडुलिपियां आगरा में मिलने लगीं और कहा गया कि फारसी में लिखे ये दस्तावेज 17वीं सदी की हैं और ताजमहल का मूल डिजाइन हैं. एक तुर्क उस्ताद ईसा का नाम, ताजमहल के वास्तुकार के तौर पर उछल गया. वैसे, अधिकतर इतिहासकार इन दस्तावेजों को स्थानीय ब्रिटिश मुखबिरों द्वारा उछाला गया मानते हैं.

वैसे, इतिहासकार मानते हैं कि उस्ताद ईसा का अस्तित्व जरूर रहा होगा, लेकिन वह महज नक़्शानवीस था, वास्तुकार नहीं. यानी, उस्ताद ईसा ने ज्यादा से ज्यादा ताजमहल की योजना को कागज पर उतारा होगा. हाल में हुए शोध बताते हैं कि ताजमहल का असली वास्तुकार फारस का वास्तुकार उस्ताद अहमद लाहौरी था, जो शाहजहां का दरबारी था.

ताजमहल पर शोध करने वाली अगुआ इतिहासकार एब्बा कोच ने लिखा है कि उस्ताद ईसा की कहानी काल्पनिक है और इसे ब्रिटिश अधिकारियों ने हाथो-हाथ लिया क्योंकि उन्हें यह साबित करना था कि ताजमहल असल में एक यूरोपियन ने बनवाया था. इससे वह एक मुगल इमारत पर अपने अलहदा तरीके से अपने स्वामित्व का दावा कर सकते थे.

बहरहाल, उस्ताद अहमद लाहौरी, जिनको अहमद मीमार भी कहा जाता था, उनके हिस्से दिल्ली के लाल किले का डिजाइन बनाने का श्रेय भी है.

बहरहाल, लाहौर में एक कब्र है जिसके रखवाले यह दावा करते हैं कि वह ताजमहल के डिजाइनर की है. यह दावा है कि इतावली विद्वान गेरोनिमो वेरोनियो जो कि वेनिस का रहने वाला था, और जिसे शाहजहां ने लाहौर किले में कैद रखा था, उसे 1640 में मृत्युदंड दिया गया. हालांकि, यह दावा कि ताजमहल का काम पूरा होने के बाद शाहजहां ने वेरोनियो को कत्ल करवा दिया, बाद में इतिहासकारों ने गलत बताया.

असल में, इस बात के पक्के और लिखित सुबूत मौजूद हैं कि पुर्तगाली ईसाई पादरी फादर जोसेफ डि कास्त्रो ने बादशाह के आदेश पर वेरोनियो का कत्ल किया था क्योंकि बादशाह नहीं चाहते थे कि कोई हिंदू या मुस्लिम एक ईसाई को मृत्युदंड दे. तथ्य यह है कि वेरोनियो से जुड़ा पूरा किस्सा लाहौर में ही हुआ था इसलिए ब्रिटिशों ने ताजमहल के वास्तु पर इतालवी दावा चढ़ा दिया. वेरोनियो लागौर के तहसील बाजार की एक हवेली में रहता था.

इतिहासकारों की राय है कि ताजमहल के शुरुआती नक्शे बेशक लाहौर में ही तैयार किए गए थे और उन्हें तैयार करने वाले उस्ताद अहमद लाहौरी ही थे. वह वजीर खान मस्जिद के पास पुरानी कोतवाली के पास एक घर में रहकर काम करते थे. उस काम में उनके साथ थे तुर्की के वास्तुकार इस्माइल एफेंदी, जिन्होंने गुंबद और गोलार्ध का ही डिजाइन बनाया था.

एक बार यह काम पूरा हो जाने के बाद उस्ताद अहमद ने अपने दोस्त कासिम खान को बुलाया जो लाहौर के ही थे और जो टकसाली में रहते थे. कासिम खान को गुंबदों पर चढ़ाने के लिए सोने के कंगूरे बनाने थे. इसलिए, ताजमहल के डिजाइन का काम विशेषज्ञों की मिलीजुली कोशिश मानी जानी चाहिए. आखिर में जो नक्शा खींचा गया उसे एक तुर्क और निष्णात नक्शानवीस उस्ताद ईसा और उस्ताद अहमद लाहौरी ने अंजाम दिया.

वैसे, वेरोनियो को लेकर आधिकारिक दरबारी दस्तावेज यही कहते हैं कि उसे मौत की सजा ताजमहल के डिजाइन को लेकर नहीं दी गई थी बल्कि उसकी वजह कुछ और ही थी. वह एक मशहूर सुनार और गहनों का डिजाइनर था. लेकिन दिक्कत यह थी कि वह सम्राट के परिवार के लिए आभूषण डिजाइन करते समय सोना चोरी कर लेता था. उस पर बहुत सारे बहुमूल्य रत्न और एक बेहद बड़ा हीरा चुराने का भी आरोप था. उसके घर से सारे गहने बरामद हुए थे और उसे मौत की सजा सुनाई गई थी. मुगल दस्तावेज बताते हैं कि उसे शहर के लाहौरी गेट से दो कोस दूर एक जगह पर दफनाया गया था.

असल में, वेरोनियो के नाम का दावा इस लिए भी कमजोर पड़ता है क्योंकि उस्ताद अहमद लाहौरी ने ताजमहल का डिजाइन तय करने के लिए दुनिया भर के विशेषज्ञ जुटाए थे. लाहौर के अपने दोस्त कासिम खान, जो गुंबद का स्वर्णिम कंगूरा डिजाइन कर रहे थे, उन्होंने दिल्ली से चिरंजी लाल को बुलवाया जो उस जमाने के मशहूर मौजेक पैटर्न डिजाइनर थे.

ईरान के शिराज से खुशनबीसी (कैलिग्राफी) के उस्ताद अमानत खान को बुलाया गया. पत्थर काटने के महारथी आमिर अली को बलोचिस्तान से बुलाया गया. तुर्की के उस्ताद ईसा और उस्ताद अहमद तो खैर मुख्य वास्तुकार थे ही. इनके अलावा मुल्तान के मोहम्मद हनीफ संगमरमर के टाइल्स बनाने में बेजोड़ थे. दिल्ली के मुकरीमत खान और शिराज के मीर अब्दुल करीम इस कामकाज के मुख्य पर्यवेक्षक और प्रशासक थे.

इस काम के लिए किस कलाकार और कारीगर को कितना पैसा मिला यह भी जानना बेहद दिलचस्प होगा. मुख्य नक्शानवीस मास्टर ईसा को एक हजार रुपया दिया गया था, आज के हिसाब से उनको 333 तोला सोना या 13.3 करोड़ रुपए दिए गए थे. उस्ताद इस्माइल खान रूमी, जो कि गुंबद बनाने के विशेषज्ञ थे, उन्हें 500 रुपए दिए गए थे. समरकंज के मोहम्मद शरीफ को, जो शिखर बनाने के लिए आए थे, उन्हें 500 रुपए, लाहौर के कासिम खान को 295 रुपए, कांधार के मोहम्मद हनीफ, जो मुख्य राजमिस्त्री थे, को 1000 रुपए, मुल्तान के मोहम्मद सईद को, जो विशेषज्ञ राजमिस्त्री थे को 590 रुपए, और एक अन्य उस्ताद राजमिस्त्री मुल्तान के अबू तोरा को 500 रुपए दिए गए थे.

शिराज के कैलिग्राफर अमानत खान को 1000 रुपए और एक अन्य कैलिग्राफर, बगदाद के मोहम्मद खान को 500 रुपए अदा किए गए थे. सीरियो के रौशन खान को 300 रुपए दिए गए.

चिरंगी लाल, मुन्नू लाल और छोटू लाल के जड़ाऊ काम करने वाले परिवार को 800, 380 और 200 रुपए दिए गए थे. इस पैमाने पर खासा भुगतान यह बताता है कि किस स्तर के कौशल की जरूरत इस काम में रही होगी.

अब हम उस मशहूर किंवदंती की बात करते हैं कि शाहजहां ने ताजमहल का काम पूरा होने के बाद उस्ताद अहमद लाहौरी की आंखें निकलवा दीं और हाथ कटवा दिए थे, ताकि वह दोबारा ऐसा कोई डिजाइन न बनवा सकें. लेकिन, इस बात में कोई दम नहीं है. उनके परिवार के पाकिस्तान में दस्तावेज यह साबित करते हैं कि उस्ताद अहमद लाहौरी की मौत प्राकृतिक तरीके से हुई थी.

सचाई यह है कि उस्ताद अहमद काम पूरा होने के बाद लाहौर लौट गए थे जहां उनके बेटों ने निर्माण कार्य का शानदार कारोबार खड़ा कर लिया था. उनकी मौत के वक्त उनकी बहुत प्रतिष्ठा थी.

Monday, May 24, 2021

जब अंग्रेजों को पहली बार पड़ी थी रॉकेट की मार

वाकया 1780 का है. पोल्लिलोर की लड़ाई (आज के तमिलनाडु का कांचीपुरम) में अंग्रेजों और मैसूर के बीच युद्ध हो रहा था. इस लड़ाई को दूसरा आंग्ल-मैसूर युद्ध (एंग्लो-मैसूर वॉर) भी कहा जाता है. अंग्रेजों की अगुआई कर्नल विलियम बेली कर रहे थे और मैसूर का नेतृत्व हैदर अली के हथ में था. अचानक, एक उड़ता हुआ आग का गोला आया और अंग्रेजों के बारूद भंडार में आग लग गई. पर वह कोई तोप का गोला नहीं था, हैदर अली की सेना की तरफ से आवाज़ करती और सीटी बजाती हुई लंबी बारूद भरी बांस की नलियां उड़कर आतीं और अंग्रेजी सेना को ध्वस्त करती जा रही थी.

बराबरी में चल रहा यह युद्ध अचानक, अंग्रेजों के हाथ से निकल गया क्योंकि यह मुंजनीकें (रॉकेट) हजार गज दूर से चलाए जा रहे थे और अंग्रेजी बंदूकों में उतनी दूर मार करने की काबिलियत नहीं थी. अंग्रेज लोग पहली दफा रॉकेट देख रहे थे.

यह कमाल किया था मैसूर के रॉकेट दस्ते ने, और हैदर अली के वक्त में मैसूर की सेना में इस दस्ते में 1,200 लोग थे. इन रॉकेट ने ही खेल बदलकर रख दिया. शायद यह अंग्रेजों की भारत में सबसे बुरी हार थी. अंग्रेज हैरान थे कि आखिर कैसे हिंदुस्तानियों ने यह रॉकेट बनाया है!

बहरहाल, हैदर अली और उनके बेटे टीपू सुल्तान ने इन रॉकेटों का मैसूर के मुकाबले कहीं अधिक बड़ी सेना ईस्ट इंडिया कंपनी के खिलाफ आंग्ल-मैसूर युद्ध में इस्तेमाल किया. बाद में, अंग्रेजों ने इस तकनीक में दिलचस्पी दिखाई और इसे 19वीं सदी में और अधिक विकसित किया. टीपू सुल्तान ने जब इसमें कुछ आवश्यक सुधार किए तो इनकी रेंज बढ़कर सवा मील (2 किमी के आसपास) हो गई.

इतिहासकारों के लिहाज से, विस्फोटकों से भरे रॉकेट का पहला प्रोटोटाइप हैदर अली ने विकसित किया था, जिसे उनके वारिस और बेटे टीपू सुल्तान ने आगे बढ़ाया. इनमें बारूद भरने के लिए लोहे की नलियों का इस्तेमाल होता था और इसमें तलवारें जुड़ी होती थीं.

टीपू सुल्तान इस रॉकेट में संतुलन कायम करने के लिए इनमें बांस का भी इस्तेमाल किया था. उनके प्रोटोटाइप को आधुनिक रॉकेट का पूर्वज कहा जा सकता है. इसमें किसी भी अन्य रॉकेट की तुलना में अधिक रेंज, बेहतर सटीकता और कहीं अधिक विनाशकारी धमाका करने की क्षमता थी. इन विशेषताओं की वजह से इसे उस समय दुनिया का सर्वश्रेष्ठ हथियार माना जाने लगा.

1793 में भारत में ब्रिटिश सेनाओं के उप-सहायक जनरल मेजर डिरोम ने बाद में मैसूरियन सेना द्वारा प्रयोग किए जाने वाले रॉकेटों के बारे में कहा, “कुछ रॉकेटों में एक चैम्बर था, और वे एक शेल की तरह फटे; दूसरे रॉकेट, जिन्हें ग्राउंड रॉकेट कहा जाता है, उनकी गति सांप जैसी थी, और उनसे जमीन पर हमला करने पर, वे फिर से ऊपर उठते, और फिर जब तक उनमें विस्फोट खत्म नहीं हो जाता तब तक हमला करते।”

टीपू ने रॉकेट टेक्नोलॉजी पर और अधिक शोध करने के लिए श्रीरंगपटनम, बैंगलोर, चित्रदुर्ग और बिदानूर में चार तारामंडलपेट (तारों के बाज़ार) की स्थापना की.

यह कच्चे लोहे के बने रॉकेट अधिक ताकतवर होते थे क्योंकि इनके चैंबर लोहे के थे और यह बारूदी शक्ति का अधिक दवाब झेल सकते थे. इसलिए टीपू सुल्तान ने 1792 से 1799 के बीच ईस्ट इंडिया कंपनी के खिलाफ इनका बड़ी कुशलता से इस्तेमाल किया.

टीपू सुल्तान ने एक मिलिट्री मैन्युअसल लिखा था जिसका नाम है फतह-उल-मुजाहिदीन जिसमें 200 रॉकेट विशेषज्ञों को हर मैसूरी ब्रिगेड में तैनात करने का उल्लेख है. मैसूर में 16 से 24 इन्फैट्री ब्रिगेड थे. इन रॉकेट चलाने वालों को लक्ष्य साधने की गणना करने के लिए बारीकी से प्रशिक्षित किया गया था. इन के रॉकेट लॉन्चर भी ऐसे थे जो लगभग एक साथ पांच से दस रॉकेट्स एक साथ लॉन्च कर सकते थे.

हालांकि, आज श्रीरंगपटनम में बहुत कुछ नहीं बचा है, जो टीपू सुल्तान और उनके बनाये रॉकेट के बारे में बता सके लेकिन विश्व सैन्य इतिहास पर मैसूरियन रॉकेट की छाप हमेशा रहेगी.

Tuesday, May 18, 2021

अल बीरूनी एक मुस्लिम वैज्ञानिक, जो एक हमलावर के साथ हिंदुस्तान आए थे

इल्म की दुनिया में आज बात एक ऐसे विद्वान और वैज्ञानिक की, जिसका एक रिश्ता हिंदुस्तान से भी रहा है. इस्लामिक दुनिया ही नहीं, बल्कि दुनियाभर के महान वैज्ञानिकों में शुमार होने वाले अल-बीरूनी उस दौर में हुए थे, जो असल में पूर्वी इस्लामी दुनिया में राजनैतिक उथलपुथल भरा समय था. इनसाइक्लेपेडिया ब्रिटानिका के मुताबिक, अल-बीरूनी का जन्म 4 सितंबर 973 ईस्वी में आज के उज्बेकिस्तान के खुरासान प्रांत में ख्वारिज़्म में हुआ था. और इस तरह से वह एक और महान वैज्ञानिक अल-ख़्वारिज़्मी के इलाके के ही थे. अल-बीरूनी आज के गजनी, अफगानिस्तान में 1052 में हुई थी जिसे उस वक्त गज़ना कहा जाता था.

अल-बीरूनी सिर्फ वैज्ञानिक ही नहीं थे. बल्कि यह कहना चाहिए कि वह क्या नहीं थे. वह गणितज्ञ, खगोलशास्त्री, एंथ्रोग्राफिस्ट (नृवंशविद), मानवविज्ञानी, इतिहासकार और भूगोलज्ञ थे.

अल-बीरूनी ने छह अलग-अलग शासकों के मातहत काम किया था और उनमें से अधिकतर शासक लड़ाकू प्रवृत्ति के थे और उनका अंत भी युद्ध में या हिंसा की वजह से हुआ था. पर, इन हिंसक घटनाओं के केंद्र में रहने के बाद भी अल-बीरूनी अपनी बहुमुखी प्रतिभा को निखारने में कामयाब रहे.

अल-बीरूनी का जन्म आमू दरिया के दूसरी तरफ ख्वारिज़्म में हुआ था, और उनकी शिक्षा-दीक्षा ख्वारिज़्म-शाह अमीर अबू नस्र मंसूर इब्न इराक ने करवाई थी, जो वहां के राजपरिवार का सदस्य था और संभवतया वह अल-बीरूनी का संरक्षक भी था. असल में, कुछ विद्वानों की राय है कि इस शहजादे ने अपने गणित के कुछ काम अल-बीरूनी को पढ़ाने के लिए तैयार किए थे और कई दफा उसे अल-बीरूनी का काम मान लिया जाता है.

अल-बीरूनी की निजी जिंदगी के बारे में बहुत कम ज्ञात है, पर एक मध्यकालीन किताब में एक जगह उनके खुद के हवाले से कहा गया है कि अल-बीरूनी को अपने पिता के बारे में पता नहीं था.

ऐसा लगता है कि ख्वारिज़्म के शहजादे का संरक्षण अल-बीरूनी के ज्यादा वक्त तक हासिल नहीं रहा और उस शहजादे के एक सहयोगी ने बगावत करके उसकी हत्या कर दी. इससे ख्वारिज्म में एक गृहयुद्ध शुरू हो गया (996-998 ईस्वी) और इसकी वजह से अल-बीरूनी को ख्वारिज़्म छोढ़कर भागना पड़ा और अब उन्हें समानिद वंश के शासकों के यहां शरण लेनी पड़ी. यह खानदान आजकल के पूर्वी ईरान और अफगानिस्तान के ज्यादातर हिस्से पर शासन करता था.

समानिदों की राजधानी बुखारा में अल-बीरूनी के शरण लेने के कुछ ही समय बाद, एक दूसरे स्थानीय लेकिन राज्यच्युत शासक वंश क़ाबूस इब्न वोशमगीर ने भी अपना राजपाट पाने के लिए समानिदों से मदद मांगी. ऐसा लगता है कि समानिदों ने उनको मदद दी क्योंकि इसके बाद अल-बीरूनी अपना विवरण काबूस शासकों के साथ कैस्पियन सागर के पास शहर गुरगान से लिखते हैं. काबूसों के दरबार में ही अल-बीरूनी की मुलाकात एक अन्य दार्शनिक-वैज्ञानिक इब्न-सीना से हुई और उनके बीच दार्शनिक विचारों के आदान-प्रदान हुए. अल-बीरूनी ने अपनी किताब अल-अथर अल-बाकिया एन अल-कुरुन अल-खालिया (प्राचीन राष्ट्रों का क्रम) कुबूस को ही समर्पित है.

कुछ वक्त तक तो अल-बीरूनी लगातार यात्रा करते रहे—या कहें कि युद्ध से भागते रहे और लगातार संरक्षकों की तलाश करते रहे—और उसके बाद समानिदों का पूरा इलाका सुबुक्तगीन के क्रूर बेटे महमूद के कब्जे में आ गया.

998 में महमूद ने गजना पर कब्जा करके उसके राजधानी हना लिया और अल-बीरूनी और इब्न सीना दोनों के अपने दरबार में नौकरी करने का आदेश दिया. इब्न सीना तो किसी तरह निकल भागे लेकिन अल-बीरूनी भाग नहीं पाए और वह गजना में अपने आखिरी दिनों तक काम करते रहे, जब वह महमूद गजवनी के साथ भारत पर हमले में सेना के साथ आए थे. अल-बीरूनी बेशक, एक निर्दयी हत्यारे के अनमने मेहमान थे फिर भी उन्होंने अपनी यात्राओं को शानदार तरीके से कलमबद्ध किया. और उन्होंने हिंदुस्तान के बारे में जो सूक्ष्म ब्योरे दिए उससे वह वैज्ञानिक के साथ-साथ नृवंशविद्, मानवविज्ञानी और भारतीय मामलों के महान इतिहासकार भी मान गए.

अल-बीरूनी के काम की फेहरिस्त बनाना इतिहासकारों के लिए इसलिए भी आसान रहा क्योंकि अल-बीरूनी ने खुद अपने कामों की ऐसी एक सूची तब तैयार कर दी थी, जब वह 60 साल के थे. हालांकि, अल-बीरूनी सत्तर से अधिक सालों तक जीवित रहे, ऐसे में उनके बाद के कुछ काम इस सूची में शामिल नहीं हैं, फिर भी यह सूची पर्याप्त है. इस सूची और बाद में खोजे गए कामों को मिलाकर, इतिहासकारों के मुताबिक (इनसाक्लोपेडिया ब्रिटानिका) अल-बीरूनी ने कुल 146 किताबें लिखी हैं, इनमें से हर करीबन 90 पन्नों की है. उनमें से आधी तो खगोलशास्त्र और गणित पर हैं. पर उनमें से 22 ही मिल पाई हैं और उनमें भी आधी ही प्रकाशित हो पाई हैं.

भारतीय संस्कृति पर उनका काम हिंदुस्तान पर किसी भी ब्योरे में सबसे बढ़िया माना जाता है. इसका शीर्षक, तहकीक मा लिल-हिंद मिन माकुलाह माक्बूला फी अल अक्ल आ मारदुर्लाः (तहकीक-ए-हिंद). इस किताब में हर वह चीज दर्ज है जो अल-बीरूनी हिंदुस्तान के बारे में जुटा पाए थे. इसमे हिंदुस्तान का विज्ञान, धर्म, साहित्य और इसके रीति-रिवाजों का वर्णन है.

उनका ऐसा ही महत्वपूर्ण काम ‘अल-क़ानून अल-मसूदी’ है, जो महमूद गजनवी के बेटे मसूद को समर्पित है, जिसमें अल-बीरूनी ने टॉलेमी के ‘अलमगस्त’ जैसे उस वक्त उलपब्ध स्रोतों से सभी खगोलीय ज्ञान एकत्र किए और उनको उस वक्त के ज्ञान के लिहाज से अद्यतन भी किया. हालांकि, इसके हरेक अध्याय में अल-बीरूनी का योगदान रेखांकित किया जा सकता है. मसलन, तीसरे स्तर के समीकरणों को हल करने के लिए अल-बीरूनी ने नए बीजगणितीय तकनीकों का प्रतिपादन किया था. उन्होंने सौर भूउच्च (सोलर अपोजी) की गति और अग्रगमन (परसेशन) की गति के बीच एक बारीक अंतर स्थापित किया. उन्होंने खगोलीय नतीजे हासिल करने के आसान तरीके भी ढूंढे.

उस वक्त के लिहाज से उनका काम, अल-तहफीम ली-आवैल सिनात अल-तंजीन (खगोलविज्ञान के सूत्र) आज भी सबसे बेहतरीन काम माना जाता है. शहरों के बीच की दूरी को सटीक तरीके से मापने की विधि गणितीय भूगोल मे अल-बीरूनी का अद्वीतय योगदान है. उन्होंने गणित पर सवाल उठाने वाले उलेमाओं को गजना से काबे की ओर दिशा और दूरी मापने में गणित के इस्तेमाल से चुप करा दिया.

अल-बीरूनी ने पहाड़ों के बनने पर सवाल खड़े किए और जीवाश्मों के जरिए यह साबित किया कि धरती किसी वक्त पानी के अंदर रही होगी. उन्होंने इस बात को किताब-उल-हिंद के जरिए भी उठाया है.

इनकी किताब इस्तियाब अल-वुजूह अल-मुमकिनाह फी सनात अल-अस्तूरलाब (एक्जॉस्टिव बुक ऑन एस्ट्रोलेब्स) में धरती की गतियों की संभावनाओं पर बात की गई है.

अल-बीरूनी बेशक अपने दौर के सबसे बहुमुखी प्रतिभावान व्यक्तियों में से थे.

Saturday, May 15, 2021

स्मृतिः इरफान होने का अर्थ

मंजीत ठाकुर

विश्व सिनेमा में ज्यां गोदार को कौन नहीं जानता? 1960 में रिलीज उनकी एक फ्रांसीसी फिल्म ब्रेदलेस (ए बॉट डि सफल) में एक संवाद है, “व्हॉट इज योर ग्रेटेस्ट एंबिशन इन लाइफ?”

“टू बिकम इमॉर्टल... ऐंड देन डाइ”

(“तुम्हारी जिंदगी की सबसे बड़ी महत्वाकांक्षा क्या है?”

“अमर होना... और फिर मरना”)

यह संवाद हिंदुस्तान के सबसे आला अदाकारों में से एक इरफान को ही पारिभाषित करता है.

कहां से चले थे इरफान? आपको याद है कहां आपने उनको पहली दफा देखा था? संवतया आप डॉ चंद्रप्रकाश द्विवेदी के टीवी सीरियल चाणक्य का नाम लेंगे, जिसमें वह सेनापति भद्रबाहु के रूप में दिखे थे या शायद आपको नीरजा गुलेरी की लोकप्रिय सीरीज चंद्रकांता याद हो जिसमें वह दोहरी भूमिका में थे.

पर, इरफान इससे पहले परदे पर नमूदार हो चुके थे.

1987 में इरफान राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय से निकले और मीरा नायर की सलाम बॉम्बे में छोटी सी भूमिका में आए. यह बात दीगर है कि उनके उस छोटे किरदार पर भी फाइनल कट में कैंची चल गई. जमाना दूरदर्शन का था, काम की तलाश थी तो एक रूसी लेखक मिखाइल शात्रोव के नाटक का उदय प्रकाश ने हिंदी अनुवाद किया था और नाम था, लाल घास पर नीले घोड़े और उसमें इरफान खान (तब उपनाम खान भी लगाते थे) लेनिन बने. उसके कुछ महीनों बाद डीडी पर एक सीरियल प्रसारित हुआ डर, जिसमें वह मानसिक रूप से अस्थिर हत्यारे की भूमिका में थे और मुख्य खलनायक बने थे. उन दिनों टीवी पर सास-बहू का जलवा नहीं था और टीवी पर ठीक-ठाक कंटेंट पेश किया जाता था. इसी में मशहूर शायर सरदार अली जाफरी ने एक धारावाहिक बनाई जिसका नाम था कहकशां और इरफान खान उर्दू शायर और मार्क्सवादी कार्यकर्ता मखदूम मोहिउद्दीन की भूमिका में नजर आए. नब्बे के दशक में, चाणक्या, भारत एक खोज, सारा जहां हमारा, बनेगी अपनी बात, चंद्रकांता, श्रीकांत, अनुगूंज जैसे धारावाहिकों में नजर आते रहे.

पर, अमरता की दिशा में यह एक छोटा कदम था. इमॉर्टल होना इतना आसान भी तो नहीं. लेकिन नब्बे के दशक से लेकर 2020 आते-आते यह एक्टर, स्टार भी बन गया. अमर भी. जिसकी आंखों में वह कमाल था कि लोग कहें कि इरफान की आंखें बोलती हैं तो यह तारीफ नाचीज सी लगती है. इरफान अंतरराष्ट्रीय स्टार बन गए, जिसके सामने शाहरुख का कद भी छोटा पड़ने लगा. आप लाइफ ऑफ पई याद करें, आप अमेजिंग स्पाइडरमैन याद करें... आप ऑस्कर में झंडे गाड़ने वाली स्लमडॉग मिलियनर याद करें.

आखिर जयपुर के अपने दकियानूसी परिवार से भागकर दिल्ली के एनएसडी में पहुंचने वाले इरफान के लिए क्या इमॉर्टिलिटी की परिभाषा यही रही होगी? क्या उस शख्स के लिए जिसने टीवी एक्टर मुकेश खन्ना (भीष्म पितामह फेम) से सलाह ली थी कि आखिर फिल्मों में काम कैसे हासिल किया जाए, कामयाबी का पैमाना क्या रहा होगा? बाद में, इंडिया टुडे मैगजीन में कावेरी बामजई को दिए अपने इंटरव्यू में इरफान ने कहा था, “उन्होंने मुझसे कहा आप जो हैं वही करते रहें और यह सुनिश्चित करें कि आप एक दिन टीवी से बड़े बनेंगे.” खन्ना से इस सलाह के समय तक इरफान बनेगी अपनी बात के 200 एपिसोड पूरे कर चुके थे और यह सीरियल 1994 से 1998 के बीच प्रसारित हो रहा था. इरफान चंद्रकाता के कई एपिसोड में नमूदार हो चुके थे और स्टार बेस्टसेलर्स में भी. इरफान ने उसी इंटरव्यू में कहा था, “मैं बोर हो रहा था. मैं काम छोड़ने की सोचने लगा था.”

फिर आसिफ कपाड़िया की निगाह उन पर पड़ी थी. और 2001 में रिलीज हुई ब्रिटिश फिल्म द वॉरियर, जिसने इरफान को अंतरराष्ट्रीय ख्याति दी और उनकी प्रतिभा ने अंतराराष्ट्रीय फिल्मकारों का ध्यान खींचा. माइकल विंटरबॉटम ने उन्हें 2007 में अ माइटी हार्ट में पाकिस्तानी पुलिसवाले की भूमिका दी और वेस एंडरसन ने दार्जिलिंग लिमिटेड में उनके लिए खास छोटी भूमिका ही लिखी, ताकि साथ में काम कर सकें.

तो क्या इतने सफर से वह हासिल हो गया, जिसका जिक्र ब्रेदलेस के संवाद में है?

नहीं.

इरफान भरोसेमंद अभिनेता बनना चाहते थे. सफर बाकी था. ताकि लोगों को उनकी फिल्म रिलीज करते समय सोचना न पड़े.

एनएसडी में उन्हें सिखाया गया था कि साहस बहुत जरूरी है. इरफान ने एक इंटरव्यू कहा कि उन्हें समझ में नहीं आया कि आखिर एक एक्टर का साहस से क्या लेना-देना. पर फिर आई, विशाल भारद्वाज की सात खून माफ. इरफान ने अपने उदास शायर के किरदार को थोड़ा स्त्रैण बनाया, थोड़ा महिलाओं जैसा. सर झटकना और हाथ चलाने की अदाएं डालीं. यह एक भूमिका को अलग दिखाने का साहस था, जो एनएसडी ने उन्हें सिखाया था.

और तब एक और साहस की बात हुई. विशाल भारद्वाज ने मकबूल में 2003 में उन्हें रोमांटिक भूमिका दी. यह भी साहस था. और इसके साथ, व्यावसायिक सिनेमा में पहले खलनायक और बाद में कभी हिंदी मीडियम और कभी अंग्रेजी मीडियम के जरिए इरफान नई इबारतें रचते रहे.

फिर, इरफान का नाम लेते ही जब उस एक्टर का चेहरा जेह्न में छपने लगा, जो अभिनय करते वक्त अपनी मांसपेशियों को एक मिलीमीटर भी फालतू की गति नहीं देता, जिसका अपनी पेशियों पर गजब का नियंत्रण था और जो अपने जज्बात को नाटकीय रूप से पेश नहीं करता था. तब मेरे एक सिनेमची दोस्त विकास सारथी ने मुझसे कहा था, जेह्न में नाम लेते ही इस तरह तस्वीर उभर आए, तो यही इमॉर्टिलिटी है, अमरता है.

इरफान ने अमरता हासिल कर ली और फिर उनकी देह किसी और अनंत यात्रा पर निकल गई.

रेस्ट इन पीस. इरफान!