Thursday, August 22, 2019

नदीसूत्रः दिल्ली के नाले यमुना में बाढ़ से कैसा डर

यमुना में बाढ़ का खतरा बताया जा रहा है. पर शुक्र मनाइए कि भारत की सबसे प्रदूषित नदियों में से एक यमुना में कुछ दिन तो इसी बहाने साफ पानी बहेगा. नदियों में बाढ़ एक कुदरती बात है. अतिक्रमण हमने किया है, नदी ने नहीं. 


अगर आप टेलिविज़न पर खबरें देखते हैं तो हहाती हुई यमुना का दृश्य जरूर देख रहे होंगे. यमुना का यौवन देखने लायक है. पर खबरें दिल्ली को डराने की कोशिश कर रही है. बाढ़ का संकट बताया जा रहा है. नदियों में बाढ़ क्या कोई अघट जैसी घटना है? यह तो बहुत प्राकृतिक घटना है. हर नदी में बाढ़ आती है और आनी भी चाहिए. कई लोग ताज्जुब कर रहे हैं दिल्ली में बाढ़ क्यों, जबकि बारिश भी नहीं हुई.

ऐसा कहने वाले लोग न तो नदियों के स्वभाव को जानते हैं न नदी तंत्र को. कैचमेंट और बेसिन जैसे शब्दों से अनजान लोग यमुना पर बने लोहे को पुल को यमुना के पानी घटने-बढ़ने का आधार बताते हैं.

दिल्ली में रहने वाले या कभी यमुना को पार करने वाले लोग उसे रोज़ाना देखते होंगे, उसके काले गंधाते पानी पर हाय-हाय करते होंगे. पूरी दिल्ली में आपको यमुना में कभी भी साफ पानी नहीं दिखता होगा.

बस, दिल्ली से पहले वजीराबाद बराज ही वह जगह है जहां पर यमुना का पानी काला नहीं होता. लेकिन वहां तो हम यमुना का करीबन सारा पानी रोक लेते हैं और उसके आगे जो पानी हमें दिखता है वह दिल्ली का सीवर है. उद्योगों और घरों का गंदा प्रदूषित पानी जो बिना ट्रीटमेंट के सीधे उसमें गिराया जाता है.

यमुना नदी की बदहाली वजीराबाद से ही शुरू हो जाती है. दिल्ली में वजीराबाद से ओखला बैराज के बीच की यह दूरी, दुनिया में किसी भी नदी की तुलना में यमुना के लिये सबसे ज्यादा चुनौतीपूर्ण है. इसी हिस्से में यमुना सबसे अधिक प्रदूषित है.

आखिर यमुना को यूं ही वैज्ञानिक जैविक रेगिस्तान नहीं कहते. इसे भारत की सर्वाधिक प्रदूषित नदी का शर्मनाक दर्जा मिला हुआ है. इसके पानी में नाइट्रोजन, पोटेशियम, फास्फोरस और बायोमाइडस जैसे कृषि रसायन की मौजूदगी में पिछले 25 वर्षों में चार गुना वृद्धि हुई है. देहरादून, यमुना नगर, करनाल, सोनीपत, पानीपत, दिल्ली, फरीदाबाद, वल्लभगढ़, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, बागपत, गाजियाबाद, नोएडा, मथुरा और आगरा घरेलू और औद्योगिक कचरा सीधे यमुना में गिराते हैं. अनुमान है कि हरियाणा के 22, दिल्ली की 42 और उत्तर प्रदेश की 17 फैक्टरियां यमुना में सीधे तरल कचरा बहाती हैं.

इसी हिस्से में आकर यमुना सिकुड़कर डेढ़ से तीन किलोमीटर चौड़ी रह जाती है. यमुना पर किए गए कई शोधों में से एक शोध कहता है कि गरमियों में इसकी गहराई भी करीबन एक मीटर और चौड़ाई महज 80 मीटर रह जाती है. अभी जिस धारा को देखकर आपको बाढ़ की धमकी दी जा रही है, गरमी में यमुना उसका महज 16 फीसद ही रह जाती है.

यमुना को दिल्ली ने मौत दी है और उसमें भी सबसे अधिक चुनौती सरकारी एजेंसियों से मिली है. 100 एकड़ पर शास्त्री पार्क मेट्रो, 100 एकड़ में यमुना खादर आइटीओ मेट्रो, 100 एकड़ में खेलगांव और उससे जुड़े दूसरे निर्माण, 61 एकड़ में इन्द्रपस्थ बस डिपो और 100 एकड़ में बनाया अक्षरधाम. नगर निगम के नालों ने यमुना का आंचल रोजाना मैला करने का ठेका लिया हुआ है सो अलग.

महरौली, वसन्त विहार से लेकर द्वारका तक की हरियाणा से सटी पट्टी साल भर त्राहि-त्राहि करती है.

यही वह हिस्सा है, जिसने 1947 से 2010 के बीच नौ बाढ़ देखे हैं. 1947, 1964, 1977, 1978, 1988, 1995, 1998, 2008 और 2010. यमुना के पेटे में धड़ाधड़ निर्माण किए जा रहे हैं. यह भूलकर कि यमुना भ्रंश रेखा में बहती है और कभी भी भूकंप के तगड़े झटके लगे तो यह सब ठाठ धरा रह जाएगा.

केन्द्रीय जल आयोग का प्रस्ताव कहता है कि यमुना धारा के मध्य बिन्दु और एकतरफ के पुश्ते के बीच की दूरी कम-से-कम पांच किमी रहनी चाहिए. लेकिन, हकीकत यह है कि मेट्रो, खेलगांव, अक्षरधाम जैसे सारे निर्माण सुरक्षा से समझौता कर बनाए गए हैं.

पर्यावरण संरक्षण कानून- 1986 की मंशा के मुताबिक, नदियों को ‘रिवर रेगुलेशन जोन’ के रूप में अधिसूचित कर सुरक्षित किया जाना चाहिए था. 2001-2002 में की गई पहल के बावजूद, पर्यावरण मंत्रालय आज तक ऐसा करने में अक्षम साबित हुआ है. बाढ़ क्षेत्र को ‘ग्राउंड वाटर सेंचुरी’ घोषित करने के केन्द्रीय भूजल आयोग के प्रस्ताव को हम कहां लागू कर सके?

यमुना जहां अभी बह रही है, यह उसी का रास्ता है. उफान मारते पानी को देखकर हम डर इसलिए रहे हैं क्योंकि हमने अवैध रूप से उसके पेटे में अपना घर बसा लिया है.

यमुना में बाढ़ से डरिए मत, इसी बहाने कुछ तो नदी में साफ पानी बहने दीजिए.

***

Monday, August 19, 2019

नदीसूत्रः जहरीली हिंडन अब नदी नहीं एक त्रासदी है

एनजीटी की कमिटी की रिपोर्ट साफ तौर पर हिंडन को एक डेड रिवर यानी मृत नदी बताती है क्योंकि नदी के जल में घुले हुए ऑक्सीजन की मात्रा तकरीबन शून्य तक पहुंच गई है.

दिल्ली में रहने वाले लोग हिंडन नदी से जरूर परिचित होंगे. इसका एक नाम हरनदी भी है और यह सहारनपुर के पास से निकलकर मुजफ्फरनगर, मेरठ, बागपत और गाजियाबाद होती हुई यमुना में जाकर मिल जाती है. खासकर जिन लोगों ने दिल्ली के पूरब की ओर होते विस्तार की तरफ अपना बसेरा बसाया होगा, वे लोग तो जरूर इस नदी के आसपास से गुजरते होंगे.

गाजियाबाद-दिल्ली में रहने वालों और हिंडन तट के आसपास के लोगों के लिए पिछले महीने खबर कुछ अच्छी नहीं है. यह हो सकता है कि नदियों की सेहत को लेकर आने वाली खबरों पर हमारा ध्यान नहीं जाता और हमने अपनी चिंताओं में से नदियों की सेहत को बाहर कर दिया है, पर यह चिंता और चिंतन का विषय होना चाहिए.

राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (एनजीटी) की एक कमिटी ने पिछले महीने रिपोर्ट दी है कि हिंडन नदी के आसपास रहने वाले लोगों में से करीब 40 फीसदी लोग जलजनित बीमारियों के शिकार हो सकते हैं. इसकी वजह है कि इस इलाके में शहरीकरण काफी तेज गति से बढ़ा है और इसके साथ ही औद्योगिक प्रतिष्ठानों का अपशिष्ट बिना ट्रीटमेंट के ही हिंडन में बहाया जाता है.

इस बात के दस्तावेजी प्रमाण हैं कि पिछले डेढ़ दशक में प्रदूषित हिंडन के कारण सैकड़ों लोगों को कैंसर हुआ है. एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, मेरठ के पास जयभीम नगर झुग्गियों में रहने वाले लोगों में से करीब 124 लोग काल के गाल में समाहित हो चुके हैं. इन गरीबों का कसूर यह है कि वे मिनरल वाटर नहीं पीते. जमीन से निकलने वाला पानी इतना जहरीला हो चुका है कि बचना मुमकिन नहीं.

हिमालय की तराई में सहारनपुर से अपनी 260 किलोमीटर की यात्रा में हिंडन इतनी जहरीली हो गई है कि अब यह एक नदी नहीं, बल्कि त्रासदी हो गयी है. हिंडन में किस उद्योग का अवशिष्ट नहीं जाता? नदी के गर्भ में चीनी मिल, पेपर मिल, स्टील के कारखाने, डेयरी उद्योग की गंदगी, बूचड़खानों का कचरा और बाकी के औद्योगिक अपशिष्ट, सब कुछ आकर समाहित हो जाते हैं.

सेंटर फॉर साईंस ऐंड एन्वायरमेन्ट और जनहित फाउण्डेशन ने 'हिंडन रिवरः गैस्पिगं फॉर ब्रीद' नाम से उन छह जिलों का एक अध्ययन किया था, जहां से हिंडन गुजरती है. इस अध्ययन के मुताबिक, न तो नदी सुरक्षित रही है और न ही नदी के किनारे रहनेवाले लोग. भूजल इस खतरनाक स्तर तक प्रदूषित हो गया है और नदी के पानी में भारी धातुओं और घातक रसायनों की मिलावट इतनी ज्यादा है कि पानी बहुत नीचे तक प्रदूषित हो गया है. इस प्रदूषण ने हिंडन की जैव विविधता पर बुरा असर डाला है.

हिडंन और उसकी सहायक नदी काली में धात्विक और जहरीले रसायनों का मिश्रण स्वीकृत मात्रा से 112 से 179 गुना अधिक है. इसीतरह क्रोमियम का स्तर स्वीकृत मात्रा से 46 से 123 गुना अधिक पाया गया है.

सिर्फ गाजियाबाद में ही हिंडन नदी में आठ बड़े नाले गिरते हैं. ज्वाला, अर्थला, कैला भट्टां, इंदिरापुरम, करहेडा, डासना, प्रताप विहार और हिंडन विहार ये सभी नाले आकर हिंडन में ही प्रवाहित होते हैं. और इन सबके जरिए बिना ट्रीट किया अपशिष्ट ही नदी में जाता है.

इस किसी भी सीवेज में कोई सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट या ईटीपी नहीं है. एनजीटी की कमिटी की रिपोर्ट भी कहता है कि पूरा गाजियाबाद शहर ही हिंडन को प्रदूषित कर रहा है.

एनजीटी की कमिटी की रिपोर्ट साफ तौर पर हिंडन को एक डेड रिवर यानी मृत नदी बताती है क्योंकि नदी के जल में घुले हुए ऑक्सीजन की मात्रा तकरीबन शून्य तक पहुंच गई है. इस टीम ने गाजियाबाद के 23 उद्योगों और सरकारी अस्पतालों का दौरा किया था और पाया कि होंडा को छोड़कर शायद ही कोई उद्योग पर्यावरणीय मानको का पालन करता है. जिन उद्योगों ने अपने परिसर में एसटीपी या ईटीपी भी लगा रखे हैं वे भी अपना अपशिष्ट सीधे-सीधे हिंडन में प्रवाहित कर रहे हैं.

इस कमिटी ने गाजियाबाद, बागपत, ग्रेटर नोएडा, मुजफ्फरनगर, मेरठ, सहारनपुर और शामली में 168 स्थानों पर भूमिगत जल के भी नमूने लिए थे और उनमें से 93 नमूनों में पेयजल के बीआइएस मानकों से अधिक का एक या अधिक किस्म का प्रदूषण था. कमिटी ने फ्लोराइड, सल्फेट, ऑइल और ग्रीज जैसे प्रदूषकों की जांच की थी.

यह तय है कि मौत के मुंह में जाती हिंडन का असर हम सब पर पड़ेगा. खासकर इसके तट पर बसे इलाकों में खेती से लेकर पीने के पानी तक पर. थोड़ी देर के लिए शायद हिंडन में उड़लने से पहले घातक अपशिष्टों के उपचार में लागत अधिक लगती हो, लेकिन इसके दुष्परिणामों के बाद आने वाला खर्चा अधिक होगा. कई गुना अधिक. खेती से लेकर लाज तक, आप बस जोड़ते रह जाएंगे.

बरसात में उग्र नदी से ही मत डरिए, हमारी वजह से मरती हुई नदी भी बेहद नुक्सानदेह होगी.

Friday, August 9, 2019

नदीसूत्रः शिव के त्रिशूल पर बसी काशी में नदियों की दुर्गति


जिस देश में गंगा की ही फिक्र कम है उसमें बेचारी वरुणा और असि की क्या बिसात? जिन नदियों के नाम पर वाराणसी शहर बसा, उन नदियों के विलुप्त होने के बाद क्या शहर बचा रह जाएगा! कोई शहर लाख शिव के त्रिशूल पर बसा हो, पर बिना पानी के जड़े सूख ही जाएंगी.


बहुत समय से सुनते आए हैं कि नदियां किसी भी सभ्यता का आधार रही हैं और उसकी धमनियों की तरह होती हैं. दुनिया की तमाम महान सभ्यताएं नदी घाटियों में विकसित हुई हैं. आप चाहे सिंधु-गंगा घाटी की मिसाल लें या दजला-फरात की. एक नदी अपने इलाके की संस्कृति की वाहक होती है और अपने साथ एक इतिहास और सांस्कृतिक विरासत लेकर चलती है. किसी इलाके की खेती, वहां मछलीपालन और मछली समेत जलीय और तटीय जैव-विविधता नदी पर निर्भर होती है.

भारतीय साहित्य में नदियां मौजूद हैं. ऋग्वेद से ही हमारे साहित्य में नदियों का उल्लेख है. धार्मिक महत्व तो खैर है ही. आपको आज की परिस्थिति में संभवतया मजाक लगे लेकिन हाल तक देश के कई हिस्सों में सीधे नदियों का पानी पिया भी जाता था. मैं खुद ओडिशा के कालाहांडी इलाके में जब नियामगिरि पहाड़ियों पर जा रहा था, तो वहां स्थानीय लोगों को बमुश्किल छह सात फुट चौड़ी नदी का पानी पीते देखा था. मुझसे भी कहा गया कि यहां के नदियों का पानी अभी प्रदूषण से बचा है और इसमें पहाड़ियों की दुर्लभ जड़ी-बूटियों का मिश्रण हैं. वाकई पानी साफ था और सुस्वादु भी. (जी हां, आप माने न माने, पानी का भी स्वाद होता है)

लेकिन यकीन मानिए, जिस तरह से हम अपनी नदियों का नाश करते जा रहे हैं हम जल्दी ही दुनिया में जलसंकट का सामना करने वाले देशों में होंगे. हमारी आबादी भी अबाध गति से बढ़ती जा रही है और नदियां उतनी ही तेजी से लुप्त होती जा रही हैं.

वैसे हम जब भी नदी शब्द कहते हैं तो दिल्ली वालों को यमुना याद आती है (गाद से भरी, काली) और मैदानी लोगों को गंगा. लेकिन इसके साथ ही हम उन छोटी नदियों को भूल जाते हैं. पिछले हफ्ते मैंने कोलकाता की आदि गंगा का जिक्र किया था जो गंदे नाले में बदलकर रह गई है. लेकिन इन छोटी नदियों के योगदान से ही बड़ी नदियां वाकई बड़ी नदियां बन पाती हैं, यह भी हमें याद रखना चाहिए. इन छोटी नदियों मे से कई बड़े शहरों का शिकार बन गई हैं. इनमें से कुछ तो शहर के अपशिष्ट प्रवाह को बहाने के काम आने वाले नालों में बदल गई हैं. इन छोटी नदियों पर हमारा ध्यान तभी जाता है जब घटिया ड्रेनेज सिस्टम की वजह से बरसात के मौके पर इन नदियों का पानी सड़कों पर आकर जमा हो जाता है.

इसलिए हमें याद रखना चाहिए कि एक सुचारू नदी तंत्र की भारत की बाढ़ जैसी आपदाओं से बचाव का एक रास्ता हो सकता है. इन दिनों बनारस बहुत चर्चा में है. प्रधानमंत्री जिस चुनाव क्षेत्र से मैदान में हो वह चर्चा में न आए तो क्या आए भला? हाल के हिंदी लेखकों की नौजवान पीढ़ी ने अस्सी घाट को भी बहुत तवज्जो दे दी है. पर इस बात का जिक्र लोग कम ही करते हैं कि वाराणसी का नाम जिन असि और वरुणा नदियों के नाम पर पड़ा और इन दोनों नदियों के भूखंड को ही वाराणसी कहा गया, उन नदियों का क्या हुआ? इस शहर को बनारस नाम तो मुगलों ने दिया था और बाद में अंग्रेजों ने भी इसी नाम को आगे बढ़ाया.

अस्सी नदी वाराणसी के घमहापुर गांव में स्थित कर्मदेश्वर महादेव कुंड से शुरू होकर लगभग 8 किलोमीटर की दूरी तय करने के बाद गंगा में मिलती है. इसका जल-ग्रहण क्षेत्र लगभग 14 वर्ग किलोमीटर के दायरे में है.

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार देवी दुर्गा ने शुम्भ-निशुम्भ नामक असुरों का वध करने के बाद जहां अपनी तलवार फेंकी थी, उस स्थान पर ही महादेव कुंड बना और इससे निकले पानी से ही असि (बाद में अस्सी) नदी का उद्गम हुआ. तलवार को संस्कृत में असि कहते हैं. यह अस्सी नदी पहले अस्सी घाट के पास गंगा में मिलती थी, पर गंगा कार्य योजना के बाद से इसे मोड़ कर लगभग दो किलोमीटर पहले ही गंगा में मिला दिया गया. यही नहीं, सरकारी फाइलों में भी इसे अस्सी नदी नहीं बल्कि अस्सी नाला का नाम दे दिया गया है.

आज की पीढ़ी को पता नहीं होगा कि अपनी विरासतों को सहेजने में जितनी उदासीन हमारी सरकार है उतने ही हम भी हैं. और जिस नाले में हम मूलमूत्र विसर्जित करके प्रकारांतर से गंगा में भेज रहे हैं वह नदी थी और वाराणसी के वातावरण के लिए आवश्यक थी.

पर जिस देश में गंगा की ही फिक्र कम है उसमें बेचारी वरुणा और असि की क्या बिसात. वरुणा भी साथ में ही काल का ग्रास बन रही है. पर क्या यह मुमकिन है कि जिन नदियों के नाम पर वाराणसी शहर बसा, उन नदियों के विलुप्त होने के बाद बचा रह जाएगा. कोई शहर लाख शिव के त्रिशूल पर बसा हो, पर बिना पानी के जड़े सूख ही जाएंगी.


Thursday, August 1, 2019

नदीसूत्रः बढ़ता कोलकाता लील गया आदि गंगा

कोलकाता में कालीघाट के पास एक नाला बहता है. यह नाला नहीं, स्थानीय लोगों के मुताबिक असली गंगा है. आदि गंगा नाम की इस नदी को शहर ने बिसरा दिया, पर परंपराओं में यह अब भी मौजूद


पिछले साल जब मैं कोलकाता में था तो मेरे मित्रों की जिद थी कि उन्हें कालीघाट में देवी के दर्शन करने हैं और कालीघाट में दर्शन के बाद अपनी सहज जिज्ञासा में हम नीचे उतर आए थे, जहां एक गंधाता हुआ नाला बह रहा था. लेकिन उस नाले को पार करने के लिए नावें मौजूद थीं और उस वक्त भी नाववाले ने हम चार लोगों से आठ आने (पचास पैसे) की दर से सिर्फ दो रूपए लिए थे. मल्लाह ने बताया था कि यह नाला नहीं, आदि गंगा है. उसने बताया कि नाकतल्ला से गरिया जाते समय रास्ते में अलीपुर ब्रिज के नीचे जिस नाले से भयानक बदबू आती है वह भी आदि गंगा ही है. जिसको स्थानीय लोग टॉली कैनाल कहते हैं.

असल में दो सौ साल पहले तक आदि गंगा हुगली की एक सहायक धारा थी. हालांकि इसका इतिहास थोड़ा और पुराना है. लेकिन अठारहवीं सदी में जब यह अपना स्वरूप खो रही थी तब 1772 से 1777 के बीच विलियम टॉली ने इसका पुनरोद्धार करवाकर इसको नहर और परिवहन की धारा के रूप में इस्तेमाल करवाना शुरू कर दिया था.

बहरहाल, गंगा की यह धारा कोलकाता में बढ़ती आबादी, बढ़ते लालच और बढ़ते शहरीकरण के स्वाभाविक नतीजों का शिकार हुई और अब यह घरों के सीवेज ढोती हुई नाले में बदल गई है. अंग्रेजों के जमाने में इस नहर को बाकायदे दुरुस्त रखा जाता था क्योंकि उस समय नदियों की परिवहन में खासी भूमिका होती थी, लेकिन आजादी के बाद इसको भी बाकी विरासतों की तरह बिसरा दिया गया. न तो इसमें पानी के बहाव की देखरेख की गई, न ही खत्म होते पानी के बहाव को बचाए रखने की कोई जरूरत महसूस की गई.

ज्वार के समय हुगली का पानी इसमें काफी मात्रा में आता था और अपने साथ काफी गाद भी लेकर आता था. नतीजतन, यह नदी गाद से भरती गई. इस नदी की तली ऊंची होती गई.

शहर बड़ा हुआ तो कोलकाता म्युनिसिपल कॉरपोरेशन के नाले बेरोकटोक इसमें गिरते रहे. निगम के पास ज्वार और भाटे के वक्त इस नाले में आऩे वाले पानी को नियंत्रित करने के लिए कोई तंत्र नहीं था.

कभी 75 किलोमीटर लंबी रही यह आदि गंगा आज की तारीख में कई जगहों से लुप्त हो चुकी है. हालांकि, मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इसको पुनर्जीवित करने की भी कोशिशें हुईं और 1990 के बाद इसको फिर से जिलाने की गतिविधियों में करीब 200 करोड़ रुपये खर्च किए जा चुके हैं.

आदि गंगा को लेकर हुआ एक एक शोध बताता है कि बंडेल के नजदीक, त्रिबेनी (त्रिवेणी) में गंगा तीन हिस्सों में बंट जाती है. एक धारा सरस्वती, दक्षिण-पश्चिम दिशा में सप्तग्राम की तरफ बहती है. दूसरी धारा जिसका नाम जमुना है, दक्षिण-पूर्व दिशा में बहती है और तीसरी धारा हुगली बीच में बहती हुई आगे चलकर कोलकाता में प्रवेश करके आदि गंगा में मिलकर कालीघाट, बरुईपुर और मागरा होती हुई समुद्र में जा मिलती थी. कई प्राचीन लेख और नक्शों पर भरोसा करें तो आदि गंगा ही मुख्य धारा थी और उसकी वजह से कोलकाता ब्रिटिश काल में बड़ा बंदरगाह बन पाया था.

लेकिन लगभग 1750 में संकरैल के नजदीक हावड़ा में सरस्वती नदी के निचले हिस्से को हुगली नदी से जोड़ने के लिए आदि गंगा की धारा को काट दिया गया. और इसी कारण से ज्यादातर पानी का प्रवाह पश्चिमोत्तर हो गया और हुगली, गंगा की मुख्य धारा बन गई, जो आज भी है.

बहरहाल, 19वीं सदी के उत्तरार्ध में ब्रिटिश अधिकारी डब्ल्यूडब्ल्यू हंटर ने लिखा है कि इस (आदिगंगा) पुरानी नदी को ही हिंदू असली गंगा मानते हैं. जो इस नदी के किनारे बने पोखरों में अपने लोगों के मुर्दे जलाते हैं. जाहिर है, चिताएं जलाने को लेकर हंटर उस परंपरा की ओर इशारा कर रहे थे जिसके तहत गंगा के किनारे जलाए जाने से मोक्ष मिलने की मान्यता है.

1770 के दशक में आदि गंगा शहर से दूर जाने लगी थी, तब विलियम टॉली ने 15 किमी गरिया से समुक्पोता तक की धारा के बहाव को देखकर हैरान थे और उन्होने आदि गंगा को सुन्दरवन की ओर प्रवाहित होने वाली विद्याधरी नदी से जोड़ दिया. और आज इसी वजह से यह धारा टोलीनाला नाम से जाना जाता है.

पहले जो नदी सुन्दवन के किनारे बोराल, राजपुर, हरीनवी और बरूईपुर के माध्यम से प्रवाहित होती थी, उसका प्रवाह तेजी से अवरुद्ध हो रहा था. हालांकि यह 1940 के दशक तक नावों के जरिए माल ढुलाई का काफी बड़ा साधन था.

1970 के आसपास भी, सुंदरवन से शहद इकट्ठा करने वाले लोग नदी पारकर अपनी नावों को दक्षिण कोलकाला के व्यस्त उपनगर टॅालीगंज की ओर जाने वाले पुल के नीचे खड़ा करते थे.

बहरहाल, आज की तारीख में आदि गंगा लोगों के लालच की शिकार हो गई है. इसमें आपको प्लास्टिक की थैलियां, कूड़ा, कचरा, हेस्टिंग (हुगली के संगम) से गरिया (टूली के नाले) 15 किमी तक 7,851 अवैध निर्माण, 40,000 घर, 90 मंदिर, 69 गोदाम और 12 पशु शेड जैसे अतिक्रमण दिखेंगे (यह आंकड़ा 1998 का है, और हाइकोर्ट में पश्चिम बंगाल सरकार ने माना था). आपको अगर इसमें नहीं दिखेगा तो पानी.

फिलहाल, गरिया के आगे जाते ही नदी गायब हो जाती है. नरेन्द्रपुर और राजपुर-सोनापुर से लगभग तीन किमी आगे आदि गंगा दिखाई नहीं देती. और उसकी पाट की जगह पक्के मकान, सामुदायिक भवन और सड़कें नमूदार होती हैं. उसके पास कुछ बड़े तालाब दिखाई देते हैं जिनके करेर गंगा, घोसर गंगा जैसे नाम हैं. जाहिर है, ये भी आदि गंगा के पानी से बनने वाले तालाब थे और उनके नामों से यह साबित भी होता है.

इन दिनों आप देश में बाढ़ की खबरें देख रहे होंगे कि देश का पूर्वी इलाका कैसे इससे हलकान है. लेकिन आदि गंगा की मौत मिसाल है कि कैसे फैलते शहर ने नदी निगल ली है. कभी फुरसत हो तो सोचिएगा.

***